सुप्रभा सक्सेना

कैनबरा, 03 मई(हि.स.)। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने अपनी सरकार के उस फैसले का बचाव किया है जिसमें भारत से लौटने वाले ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों पर रोक लगाने, अर्थदंड एवं जेल की सजा का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना के बेकाबू होते हालात को देखते हुए यह फैसला देश के हित में लिया गया है।

ऑस्ट्रेलिया के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब सरकार ने भारत से आनेवाले यात्रियों के ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश पर रोक लगा दी है। जिन लोगों ने पिछले 14 दिनों में भारत की यात्रा की है उनके आने पर रोक लगा दी गई है। इस नियम का उल्लंघन करनेवालों पर 66,000 ऑस्ट्रेलियाई डॉलर्स और 5 साल की जाल का प्रावधान है।

मॉरिसन ने कहा कि यह बहुत ही मुश्किल निर्णय है। उन्होंने कहा कि वह प्रत्यावर्तन उड़ानों को वापस से सुरक्षित तरीके से चलाना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि हम पहले ही 20000 लोगों को वापस ला चुके हैं और यह लोगों को वापस लाने का एक बड़ा प्रयास है।

उल्लेखनीय है कि भारत में कोरोना तेजी से पांव पसार रहा है और संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। इसे देखते हुए कई प्रमुख देशों ने भारत की यात्रा पर रोक लगा दी है।

हिन्दुस्थान समाचार

You Can Share It :