सरोकार

Blog single photo

मिसाल हैं 'सोनू यज्ञ सैनी' : भोजन-वाहन-मास्क के साथ मुफ्त में दे रहे 'चप्पल-जूते'

22/05/2020

असगर
अमेठी, 22 मई (हि.स.)। राजनैतिक दल जब प्रवासी कामगारों को सियासत का केंद्र बनाए हुए हैं उस समय में सोनू यज्ञ सैनी ने मजदूरों को तरह-तरह की मदद देकर हरेक को बड़ा संदेश दिया है। वो बाकायदा भोजन से लेकर सफर के लिए वाहन और जूते-चप्पल तक का जतन मजदूरों के लिए कर रहे हैं। 

 सोनू यज्ञ सैनी मूल रूप से अमेठी के जगदीशपुर औद्योगिक क्षेत्र के रहने वाले हैं। वर्तमान में व्यापार मंडल जगदीशपुर के अध्यक्ष हैं। लेकिन उनके अंदर गरीब की मदद का जज्बा है। जाति धर्म समुदाय और बिरादरी से ऊपर उठकर वो लाकडाउन की शुरुआत से आज तक कैंप लगाकर लोगों की मदद करते चले आ रहे हैं। लखनऊ-वाराणसी नेशनल हाईवे पर स्थित जगदीशपुर औद्योगिक क्षेत्र में लबे सड़क उनका कैंप चल रहा है। 

मुख्य रूप से ये कैंप पैदल आने वाले यात्रियों की सहायता के लिए है। जिसमें भोजन, मास्क, पैतृक स्थान तक पहुंचने के लिए गाड़ी की सुविधा के साथ-साथ प्रवासी मजदूरों, उनके परिवार के सदस्यों एवं बच्चों तक को जूते चप्पल तक मुफ्त में मुहैया करा रहे हैं। खास बात ये कि इस नेक काम को वो स्वयं के खर्च से कर रहे। ना तो किसी एनजीओ और न ही किसी प्रकार का चंदा। 

बीते दिनों जगदीशपुर में जाफरगंज मंडी के पास केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के निर्देश पर व्यापारी नेता सोनू यज्ञ सैनी ने प्रवासी मजदूरों के लिए कैंप में चंद्र मोहन और उसके परिवार को भोजन पानी दिया था फिर प्रयागराज तक के लिए गाड़ी का प्रबंध कराकर उसे भेजा था। चंद्र मोहन मुम्बई के कल्याण में मजदूरी करता था और पत्नी बच्चे को लेकर पैदल सफर करता हुआ जगदीशपुर तक पहुंचा था। उसकी पत्नी से मुम्बई से सफर से तीन दिन पूर्व एक बच्चे को जन्म दिया था। सोनू के इस सेवा यज्ञ की चर्चा सर्वत्र हो रही है। 

सोनू यज्ञ सैनी ने हिन्दुस्थान समाचार से कहा कि इस वैश्विक आपदा में जो भी हमारे बन्धु—बान्धव तकलीफ में हैं, परेशान हैं, उनकी मदद करना हम सबकी जिम्मेदारी है। किसी के विपत्ती में साथ देना ही मानवता है। कोई भूखा न रहे, इसकी चिंता करना हमसबकी जिम्मेदारी है। कहा कि इसी भाव के साथ जरूरतमंदों के लिए जो कुछ संभव हो पर रहा है, उसे अपना कर्तव्य समझकर कर रहा हूं। 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top