सिक्किम में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र निधि समर्पण अभियान समाप्त


Blog single photo
- सिक्किम से हुआ लगभग 91,06,277 रुपये का संग्रह 

बिशाल गुरुंग 
गंगटोक, 08 मार्च (हि.स.)। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र का निधि समर्पण अभियान सिक्किम में भी सफलतापूर्वक समाप्त हो गया है। कार्यकर्ताओं ने चार जिलों के 119 जीपीयू का दौरा किया है और लगभग 91 लाख 6 हजार 277 रुपये एकत्र करने में सफल रहे हैं। 

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र निधि समर्पण अभियान (सिक्किम) के अभियान प्रमुख डॉ. मदन मणि ढकाल ने बताया कि 12 दिसंबर, 2020 को पूर्वी जिले के सिंगताम स्थित नेपाली धर्मशाला में एक बैठक आयोजित की गई थी, जिसमें श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान समिति का गठन किया गया था। इसके बाद सिक्किम में निधि समर्पण अभियान की शुरुआत सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद से की गई थी।

उक्त बैठक में समाज के सभी तह के सदस्यों को शामिल करते हुए राज्य के सभी चार जिलों के लिए एक-एक जिला समिति का गठन किया गया था। इसी क्रम में राज्य स्तरीय निधि समर्पण अभियान समिति के संयोजक डॉ. मदन मणि धकाल को नामित किया गया। इसी तरह दयाराम भट्टराई को सह-संयोजक, सोमनाथ पांडे को निधि प्रमुख और पुकार पांडे को कार्यालय प्रमुख के रूप में नामित किया गया। 

संयोजक डॉ. ढकाल ने कहा कि सिक्किम में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान के कार्यकर्ताओं ने चार जिलों के 119 जीपीयू का दौरा किया है और लगभग 91 लाख 6 हजार 277 रुपये एकत्र करने में सफल रहे हैं। उन्होंने अभियान में लगे सभी कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि सिक्किम ने यह साबित कर दिया है कि सिक्किम भी निधि समर्पण करने में पीछे नहीं है और सिक्किमी समाज में भी भगवान राम के प्रति गहरा प्रेम है। 

उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओं की कमी और सीमित समय के बावजूद हम सभी परिवार तक पहुंचने में सफल रहे। उन्होंने कहा कि सिक्किमी समाज इस अभियान को सफल बनाने के लिए बधाई का पात्र है। उन्होंने आशा व्यक्त की है कि राष्ट्रीय हितों के कार्यक्रमों के लिए आने वाले दिनों में भी इसी तरह का योगदान प्राप्त होगा। डॉ. ढकाल ने स्पष्ट किया कि अब श्रीराम जन्मभूमि के लिए कोई समर्पण कार्यक्रम नहीं होगा। अगर कोई भी इस विषय पर गांव के घर में पैसा जुटाने का काम करता है, तो उसे धोखाधड़ी माना जाएगा। उन्होंने इच्छुक लोगों से अपने योगदान को ऑनलाइन प्रदान करने का अनुरोध किया। 

हिन्दुस्थान समाचार
You Can Share It :