क्षेत्रीय

Blog single photo

राष्ट्रीय युवा महोत्सव: एकांकी नाट्य मंचन से भाव-विभोर हुए दर्शक

14/01/2020

- नौ राज्यों की टीमों ने एकांकी नाट्य पेश करके सामाजिक समस्याओं की तरफ ध्यान खींचा 

राजेश तिवारी 
लखनऊ, 14 जनवरी (हि.स.)। 23वें राष्ट्रीय युवा उत्सव-2020 में युवा कल्याण एवं प्रान्तीय रक्षक दल विभाग की ओर से मंगलवार को एकांकी प्रतियोगिताओं का आयोजन बीबीडी ऑडिटोरियम में किया गया। इस मौके पर नौ राज्यों के एकांकी नाट्य मंचन देख दर्शक दीर्घा में बैठे लोग भाव-विभोर हो गए।

इस तीन दिवसीय राष्ट्रीय एकांकी प्रतियोगिताओं में कुल 23 राज्य स्तरीय टीमें भाग ले रही हैं। सभी प्रोग्रामों का कुल समय 45 मिनट का है जिसमें 10 मिनट मंच की सेटिंग के लिए समय दिया गया है। मंगलवार को गोवा, हरियाणा, महाराष्ट्र, दिल्ली, बिहार, झारखण्ड, हिमांचल प्रदेश, तमिलनाडु, पाण्डुचेरी की टीम ने एकांकी नाट्य पेश किये। हरियाणा की टीम द्वारा अपने एकांकी पर आधारित मंचन वेश्यावृत्ति जैसी सामाजिक कुरीति का प्रदर्शन किया गया जो हमारी संस्कृति व समाज में बुरा असर डालती है। समाज में वेश्याओं के प्रति मनुष्यों की निन्दनीय सोच का जीवान्त प्रस्तुतिकरण पर वेश्यावृत्ति समाप्त करने का सन्देश दिया गया।

महाराष्ट्र की टीम द्वारा रीटलेसमेट शीर्षक पर एक ऐसे लड़के की कहानी का मंचन किया गया जो मुख्य कलाकार के रूप में अपने आपको स्थापित करने व अवार्ड पाने के चक्कर में यह संदेश देता है कि अपने स्वार्थ के लिए किसी का अहित नहीं करना चाहिए। बिहार की टीम द्वारा बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीति पर प्रहार किया गया। ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ का सन्देश देते हुए यह नाटक महिला उत्पीड़न के प्रति समाज को जागरूक करता है।

झारखण्ड की टीम ने अपने एकांकी मंचन में 'मारिया फरार' जैसी सच्ची घटना पर आधारित एक ऐसी 14 वर्ष की नाबालिग लड़की के साथ हुए दुष्कर्म व तकलीफों का नाट्य रूपान्तर कर जनता को भाव-विभोर कर दिया गया। हिमाचल प्रदेश व पंडुचेरी की टीम द्वारा अपने अभिनय से दर्शकों का मनोरंजन किया गया तथा नाटक को जीवान्त रूप प्रदान करते हुए भाव-विभोर कर दिया गया। जिला युवा कल्याण एवं प्रान्तीय रक्षक दल अधिकारी आरती जायसवाल ने बताया कि इस तीन दिवसीय एकांकी प्रतियोगिताओं में शामिल प्रत्येक राज्य के कलाकारों द्वारा उम्दा प्रदर्शन किया जा रहा है।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top