क्षेत्रीय

Blog single photo

बच्चियों से दरिंदगी करने वालों को फांसी मिलेगी की सजाः बृजलाल

11/06/2019

-अनुसूचित जाति, जनजाति आयोग अध्यक्ष ने की शिवनी कांड में एक्शन प्लान की समीक्षा की
हमीरपुर, 11 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग के चेयरमैन बृजलाल ने मंगलवार को शाम शिवनी कांड की निन्दा करते हुये कहा कि दरिन्दों को फांसी की सजा होनी चाहिये। इसके लिये विवेचना और एक्शन प्लान तैयार कर लिया गया है। विवेचना में फोरेंसिक जांच और डीएनए की जांच को सम्मिलित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अलीगढ़ और जालौन की घटना में भी दोषियों को फांसी का दंड मिलना चाहिये क्योंकि घटना में बारह साल से कम उम्र की बच्चियों की निर्मम हत्या की गयी है। 
प्रदेश पुलिस महकमे के पूर्व एडीजी एवं अनुसूचित जाति व जनजाति आयोग के चेयरमैन बृजलाल कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में मीडिया कर्मियों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि शिवनी गांव में पीड़ित परिवार इस घटना से आहत है। ये गरीब परिवार भी है जिसके पास भूमि नहीं है। इस परिवार को पट्टे की भूमि और रानी लक्ष्मीबाई सम्मान योजना से 4 चार 12 हजार पांच सौ रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध करा दी गयी है साथ ही सरकारी योजनाओं का लाभ मुहैया कराने के निर्देश दे दिये गये है। इसके अलावा पीड़ित परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिलाये जायेगी। आयोग के चेयरमैन ने बताया कि इस मुकदमे की चार्जशीट अदालत में दाखिल होने के बाद शेष 4 लाख 12 हजार पांच सौ रुपये की आर्थिक मदद की चेक पीड़ित परिवार को और उपलब्ध करायी जायेगी। बाद में 1.75 लाख रुपये की चेक और दी जायेगी। आयोग के चेयरमैन ने कहा कि शिवनी घटना में एक दरिन्दा जेल गया है दूसरा अभी फरार है जिसकी गिरफ्तारी के लिये पुलिस की टीमें लगातार कार्यवाही कर रही है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी सरकार ने अनुसूचित जाति एवं जनजाति के पीड़ितों को मिलने वाली आर्थिक सहायता की राशि में एतिहासिक परिवर्तन किया है साथ ही अनुसूचित जाति एवं जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम में 25 नये और अपराधों को जोड़ा गया है जिससे अधिनियम की प्रभावकारिता और बढ़ गयी है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि गांवों में मनरेगा के कार्यों में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोगों को भी काम मुहैया कराये जाने को कहा गया है। इससे पलायन रुकेगा। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा, अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव व सीडीओ आरके सिंह मौजूद रहे। 
हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/सुनीत 


 
Top