ट्रेंडिंग

Blog single photo

जामिया हिंसा पर कांग्रेस के आरोप बेबुनियाद : भाजपा

17/02/2020

जीवीएल नरसिम्हा ने कहा- पुलिस और सेना पर सवाल उठाना कांग्रेस की रीति-नीति

आकाश राय

नई दिल्ली, 17 फरवरी (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी परिसर में हुई हिंसा को लेकर कांग्रेस द्वारा दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार पर लगाए आरोपों को निराधार बताया है। हिंसा से जुड़े सामने आए नए वीडियो की जांच दिल्ली पुलिस करेगी।

भाजपा राष्ट्रीय प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने सोमवार को पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बिना सच्चाई जाने कांग्रेस पार्टी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े कर रही है। दिल्ली पुलिस पर मासूम छात्रों को पीटने का आरोप बेबुनियाद है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस द्वारा लगातार अराजक तत्वों का समर्थन किया जा रहा है। उनके साथ कांग्रेस अपनी संवेदना जताती है, लेकिन पुलिस बल के जवान जो देश को सुरक्षित रखने के लिए अपनी कुर्बानी देते हैं, कांग्रेस उनके खिलाफ सवाल उठाती है।

उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा को खतरे में डालने वालों के पक्ष में बोलना आज कांग्रेस की नीति बन गई है। दो दिन पहले राहुल गांधी ने पुलवामा में शहीद हुए जवानों के प्रति कोई संवेदना व्यक्त नहीं की, लेकिन सैनिक बलों के खिलाफ सवाल जरूर उठाए। ऐसा ही कुछ जामिया हिंसा को लेकर भी हो रहा है।

भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने भी बिना विषय को समझे पुलिस को दोषी ठहराया। उपद्रवियों के पक्ष में बात करना कांग्रेस की रीति-नीति रह गई है। वैसे भी मासूम छात्रों को पीटने का जो आरोप पुलिस पर लग रहा है, वह गलत है। वीडियो में छात्रों के हाथ में पत्थर दिखाई दे रहे हैंक्या ये छात्र हैं या बाहर के लोग अराजकता फैलाने आए हैं? अगर ये छात्र हैं तो फिर चेहरा क्यों छिपा रखा है। सवाल उठता है कि जामिया में पत्थर से कौन -सी पढ़ाई होती है?

उल्लेखनीय है कि दिल्ली की जामिया यूनिवर्सिटी में पिछले साल प्रदर्शन के दौरान 15 दिसम्बर को बवाल हुआ था। इस दौरान के कुछ वीडियो अब सामने आए हैंजिसके बाद एक बार फिर राजनीतिक बयानबाजी तेज हो गई है। वीडियो में पुलिसकर्मियों को जामिया की लाइब्रेरी में घुसकर छात्रों को पीटते दिखाया गया है।

 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top