अंतरराष्ट्रीय

Blog single photo

अधिकारिक दौरे पर बीजिंग पहुंचे इमरान खान

08/10/2019

कृष्ण कुमार

बीजिंग, 08 अक्टूबर (हि.स.)। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान चीन के औपचारिक दौरे पर यहां पहुंच गए हैं। वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात करेंगे और आर्थिक गलियारा और कश्मीर समेत एफएटीएफ की एफएटीएफ की काली सूची में डाले जाने से बचाने के लिए ड्रैगन से गुहार लगाएंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक, अगले सप्ताह फइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) का सत्र शुरू होने वाला है और पाकिस्तान से पूछे गए चालीस प्रश्नों के उत्तर की समीक्षा की जाएगी। पाकिस्तान को डर है कि कहीं उसे काली सूची में न डाल दिया जाएगा जिसकी प्रबल संभावना भी है। यही वजह है कि इमरान की हताशा बढ़ गई। चीन एफएटीएफ का अध्यक्ष है, इसलिए उम्मीद है कि पाकिस्तान काली सूची में डाले जाने से बच जाए। लेकिन ग्रे लिस्ट से उसका निकलना मुश्किल है, जहां वह पहले से है। 

कहने के लिए तो इमरान खान यहां कराची-पेशावर रेलवे ट्रैक परियोजना को हरी झंडी दिखाने पहुंचे हैं, लेकिन घर में उनके लिए बड़ी मुश्किल सामने आई हैक्योंकि सिंध प्रांत के सदन में इस प्रोजेक्ट के खिलाफ प्रस्ताव पास किया गया है और इसे लागू न करने की बात कही गई है

सिंध विधानसभा का प्रस्ताव है कि इस ट्रैक के सिवाय कराची सर्कुलर रेलवे प्रोजेक्ट को तवज्जो दी जाए सोमवार को जब सदन में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के गनवेर इसरान की ओर से इमरान सरकार के खिलाफ प्रस्ताव लाया गयातो यह प्रस्ताव पास हो गया

सिंध सरकार की मांग है कि जब पहले ही कराची सर्कुलर रेलवे प्रोजेक्ट को चीनी सरकार की सहमति से सीपीईसी में शामिल कर लिया गया थातो इमरान खान की फेडरेल सरकार इस प्रोजेक्ट को हटाकर कराची-पेशावर रेलवे ट्रैक क्यों शामिल करवा रही है। साल 2016 में सिंध सरकार और चीनी सरकार के बीच कराची सर्कुलर रेलवे प्रोजेक्ट पर समझौता हुआ था दोनों के बीच इसको लेकर 2017-2018 तक कई बैठकें भी हुई थीं। सिंध सरकार का दावा है कि केसीआर प्रोजेक्ट कराची के लोगों के लिए काफी रोजगार और निवेश लाने वाला होगालेकिन इमरान सरकार का फैसला जनता के लिए धोखा होगा

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top