अपराध

Blog single photo

बागपत जेल में जांच करने के लिए पहुंचे डीआइजी जेल

03/05/2020

 - शनिवार को साथी बंदियों के हमले में ऋषिपाल की हो गयी थी मौत
- खेकड़ा के इंस्पेक्टर ले रहे हैं घटना के बावत बंदियों से बयान

गौरव साहनी 

बागपत, 03 मई (हि.स.)। थाना खेकड़ा क्षेत्र के बागपत जेल में हुई बंदी ऋषिपाल की हत्या के मामले में डीआइजी जेल ने आज सुबह से फिर मामले की जांच शुरू कर दी है। साथ ही इंस्पेक्टर खेकड़ा भी डीआईजी जेल के साथ जेल में आरोपित बंदियों के बयान ले रहे हैं। उधर, पोस्टमार्टम हाउस पर ऋषिपाल के परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल है। इससे पहले भी इसी जेल में पूर्वांचल के माफिया मुन्ना बजरंगी की भी कुख्यात सुनील राठी ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस मामले की सीबीआई जांच चल रही है।   

इस मामले की जांच के लिए डीजी जेल आनंद कुमार ने डीआइजी जेल लव कुमार को बागपत जेल भेजा था। डीआईजी जेल शनिवार देर रात्रि जांच के करने के बाद लौट गए थे। लेकिन रविवार की सुबह डीआइजी जेल लव कुमार फिर बागपत जेल पहुंचे और मामले की जांच शुरू की। इस मामले में विवेचक इंस्पेक्टर आरके शर्मा भी जेल के आरोपित बंदियों के बयान ले रहे हैं। शनिवार को छह बंदियों ने किसी बात को लेकर ऋषिपाल पर नुकीली वस्तु से हमला कर जान ले ली थी। इससे जेल में अफरा-तफरी का माहौल था। घटना को लेकर जेल प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है।
जिला अस्पताल स्थित मोर्चुरी में चिकित्सकों ने ऋषिपाल के शव का पोस्टमार्टम शुरू कर दिया है। पोस्टमार्टम हाउस पर कारागार पुलिस व स्थानीय पुलिस तैनात है। पोस्टमार्टम के बाद ऋषिपाल के शव को परिजनों को सौंपा जाएगा। पुलिस सुरक्षा में ही गांव बसी में ऋषिपाल के शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि शनिवार को बागपत जेल में बंद जिले के ग्राम काठा निवासी बबलू पुत्र वेदपाल अपने साथी शामली के गढ़ीपुख्ता निवासी अभय, मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना निवासी वरुण, बड़ौत के खड़खड़ी निवासी कुलदीप, जिले के ग्राम काठा निवासी कपिल व ग्राम मुबारिकपुर निवासी विजय उर्फ कालू के साथ मिलकर के बैरक में घुस नुकीले हथियारों से दूसरे बंदियों पर हमला कर दिया था। हमले में जिले के बसी गांव निवासी ऋषिपाल, उसके पिता सतसिंह, ग्राम जौनमाना निवासी अमित हमीदाबाद निवासी राेहित और मनीष शर्मा घायल हो गए थे। इसमें ऋषिपाल की मौत हो गई थी। अमित को जिला अस्पताल से हायर सेंटर रेफर कर दिया गया था। अन्य घायल बंदियों का जेल अस्पताल में उपचार किया गया।
 डिप्टी जेलर निर्भय कुमार सिंह ने आराेपित बंदियों के खिलाफ खेकड़ा थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। घटना की जानकारी पर डीएम शकुंतला गौतम और एसपी प्रताप गोपेन्द्र यादव भी जेल पहुंच अधिकारियों से घटना की जानकारी हासिल की थी। आरोपितों के पास से दो स्टील के नुकीले चम्मच यानि कट्टन व लोहे के सरिया का टुकड़ा बरामद किया गया था।
हिन्दुस्थान समाचार


 
Top