युगवार्ता

Blog single photo

दिल्ली में एक ही सर्वे एजेंसी से कई दलों का सौदा

06/09/2019

दिल्ली में एक ही सर्वे एजेंसी से कई दलों का सौदा

कृष्णमोहन सिंह

सभी प्रमुख राजनीतिक दल चुनावों के पहले जनता का रुझान जानने के लिए अपने कार्यकर्ताओं से तो सर्वे कराते ही हैं, क्रास चेक करने के लिए अपनी हैसियत के अनुसार दो-तीन सर्वे एजेंसियों से भी सर्वे कराते हैं। दिल्ली विधानसभा का चुनाव दिसंबर या फरवरी में होने की संभावना है। सो, आम आदमी पार्टी, भाजपा व कांग्रेस ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। आप ने अपने प्रतिबद्ध कार्यकर्ताओं के कई दल बनाकर अलगझ्रअलग सर्वे कराया है। उसी के बाद उसने अपनी रणनीति बदली है और अरविन्द केजरीवाल तथा मनीष सिसोदिया के बोल बदले हैं।

कांग्रेस अपनी पसंदीदा सर्वे एजेंसी के मार्फत सर्वे करा रही है। इसके कुछ नेता जिस विधानसभा क्षेत्र से टिकट चाहते हैं वहां का सर्वे करा रहे हैं। इस बीच एक विवादास्पद सर्वे एजेंसी को उस पार्टी से दिल्ली का सर्वे का ठेका मिला है जो अपने हर सर्वे में कुछ माह पहले उसे सीटें कम मिलने तथा आम आदमी पार्टी को अधिक सीटें मिलने का दावा करने के लिए चर्चित रही है। लेकिन जैसेजैसे चुनाव नजदीक आता है, वह प्रमुख विपक्षी पार्टी की बढ़त बताने लगती है। कहा जाता है इस सर्वे एजेंसी को सर्वे के साथ प्रौपेगैंडा की भी जिम्मेदारी दी गई है।


 
Top