राम जन्मभूमि

Blog single photo

पांच सौ वर्षो का कलंक आज पूरी तरह से मिट गया: स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती

05/08/2020

प्रयागराज, 05 अगस्त (हि.स.)। दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में राष्ट्र के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भूमिपूजन एवं शिलापूजन कर श्रीराम मंदिर का शुभारंभ करने से संपूर्ण विश्व सनातन धर्म की ओर आकर्षित होगा और 500 वर्षों का कलंक आज पूरी तरह मिट गया। पूरा देश आज गौरव का अनुभव कर रहा है।
 
उक्त विचार शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने बुधवार को भगवान आदि शंकराचार्य मंदिर अलोपीबाग ने अयोध्या में भूमि और शिला पूजन के अवसर पर व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि अब भारत का अभिनव उत्थान होगा। हिंदू, मुसलमान, ईसाई, यहूदी, पासी एवं सब उत्साहित व प्रसन्न हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति हमारी मंगल कामना है कि वह देश को और आगे ले जाएं। शंकराचार्य ने भी श्रीराम शीला-पूजन किया और भगवान राम दरबार की मूर्तियों पर बिल्वपत्र, फल-फूल माला चढ़ाकर आरती पूजा किया। बताया कि चातुर्मास के पश्चात अयोध्या जन्म भूमि जाऊंगा तो वहीं श्रीराम शिला भी अर्पित करूंगा। 

उन्होंने अतीत में श्रीराम जन्म भूमि के लिए बलिदान हुए श्री राम भक्तों एवं जन्मभूमि आंदोलन को गति, प्रगति, दिशा व मजबूती देने वालों स्व. दाऊ दयाल खन्ना, स्व. अशोक सिंघल, ब्रह्मलीन प्रभु दत्त ब्रह्मचारी, स्वामी बामदेवजी महाराज, ज्योतिष पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य ब्रह्मलीन स्वामी शांतानंद सरस्वती, श्री रामचंद्र परमहंस दास, महंत अवैद्यनाथ आदि का सपना आज साकार रूप में दिख रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, संघ प्रमुख मोहन भागवत एवं विश्व हिंदू परिषद सहित सभी संतों, सभी धर्म विचार धाराओं एवं राष्ट्र धर्म के प्रयास से शीघ्र ही भगवान राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण पूरा हो जाएगा।

हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/राजेश


 
Top