युगवार्ता

Blog single photo

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर मिताली का राज

28/10/2019

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर मिताली का राज

मोहम्मद शहजाद

मिताली राज महिला क्रिकेट का चमकता सितारा हैं। फिलहाल उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने 20 साल पूरे करके रिकॉर्ड बना दिया है। जिसे हाल फिलहाल कोई चुनौती नहीं मिलने वाली है।

कहते हैं कि नाम का असर व्यक्तित्व पर भी पड़ता है। भारतीय महिला क्रिकेटर मिताली राज इसकी बेहतरीन मिसाल हैं। वह केवल अपने उपनाम ही नहीं बल्कि काम से भी राज करने के लिए जानी जाती हैं। उनका लंबा क्रिकेट करियर उपलब्धियों भरा रहा है। सफलताओं भरे अपने करियर के सुंदर ताज में गत दिनों उन्होंने एक और नगीना जड़ा। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए इस मैच में उतरते ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपने 20 साल पूरे कर लिए। गुजरात के वडोदरा के रिलायंस स्टेडियम में खेले गए इस मैच में भारत ने दक्षिण अफ्रीकी टीम को 8 विकेट के लंबे अंतर से हरा दिया।
इसके साथ ही भारतीय महिला टीम ने तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में 3-0 की बढ़त हासिल कर ली। टीम इंडिया द्वारा अपनी कप्तान मिताली राज को इस ऐतिहासिक मैच में भला इससे अच्छा तोहफा और क्या हो सकता था। इस मैच में मिताली राज 11 रन बनाकर नॉट आउट रहीं। गौरतलब है कि मिताली राज ने 26 जून, 1999 को आयरलैण्ड के विरुद्ध वनडे मैच में अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर का आगाज किया था। देखा जाए तो इंटरनेशनल क्रिकेट में 20 साल उनके जून 2019 में ही पूरे हो जाने चाहिए थे।
चूंकि उन्होंने मार्च 2019 के बाद कोई मैच नहीं खेला था, इसलिए 9 अक्टूबर को दक्षिण अफ्रीकी टीम के खिलाफ मैच में उतरते ही उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में 20 साल और 105 दिन पूरे कर लिए। इस तरह मिताली महिला व पुरुष, दोनों वर्ग के क्रिकेटरों को मिलाकर यह उपलब्धि हासिल करने वाली दुनिया की चौथी खिलाड़ी बन गईं। दिलचस्प बात यह है कि दो दशक से अधिक का लंबा क्रिकेट करियर पाने वालों में सभी भारतीय उपमहाद्वीप के ही खिलाड़ी हैं। उनमें मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने 22 साल 91 दिन, श्रीलंकाई खिलाड़ी सनथ जयसूर्या ने 21 साल 184 दिन और पाकिस्तान े जावेद मियांदाद ने 20 साल 272 दिन तक अतंरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला। उनके बाद मिताली राज चौथे स्थान पर हैं।
ऐसे में इस कामियाबी को हासिल करने वाले चार लोगों में अब दो भारतीय हो गए। उनके मिताली राज की यह कामियाबी अत्यधिक मायने रखती है क्योंकि ऐसा करने वाली वह दुनिया की पहली महिला क्रिकेटर हैं। विश्व में अकेली दो दशक से अधिक समय तक इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने वाली महिला खिलाड़ी होने का गौरव होने के नाते उनके नाम सबसे ज्यादा वनडे मैचों का रिकॉर्ड भी दर्ज है। अब तक उन्होंने कुल 205 एकदिवसीय मैच खेले हैं। उनके बाद इंग्लैण्ड की पूर्व कप्तान शैर्लट एडवर्ड के नाम 194 वनडे, भारतीय खिलाड़ी झूलन गोस्वामी के नाम 178 और आॅस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एलेक्स ब्लैकवेल ने नाम 144 वनडे मैच दर्ज हैं।

इनमें से शैर्लट और एलेक्स पहले ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुकी हैं। टीम इंडिया की वरिष्ठ खिलाड़ी झूलन गोस्वामी भी ज्यादा से ज्यादा 2021 का एकदिवसीय विश्व कप खेलेंगी। ऐसे में दुनिया की कोई दूसरी खिलाड़ी फिलहाल उनके इस रिकॉर्ड के आसपास भी नजर नहीं आती है। सर्वाधिक समय और मैच खेलने की उपलब्धि मिताली राज के हिस्से में यूं ही नहीं आई है। उन्होंने क्रिकेट के तीनों प्रारूप में बल्ले से हमेशा अपना दमखम दिखाया है। यही वजह है कि उनकी झोली में कई शानदार रिकॉर्ड हैं।
मसलन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड भी उन्हीं के नाम दर्ज है। एकदिवसीय मैचों में 6,000 रनों का आंकड़ा पार करने वाली वह विश्व की पहली महिला क्रिकेटर हैं। सबसे अधिक वनडे मैच खेलने के साथ-साथ इसमें अपने द्वारा स्कोर किए गए कुल रनों के मामले में दीगर खिलाड़ियों से काफी आगे हैं। वनडे मैचों में सबसे अधिक अर्द्धशतक और लगातार सात हॉफ सेंचुरी ठोकने का रिकॉर्ड भी उनके नाम है। टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 2,000 हजार रन बनाने वाली वह पहली भारतीय बल्लेबाज हैं। दिलचस्प बात यह है कि उनसे पहले यह कारनामा कोई भारतीय पुरूष क्रिकेटर भी नहीं कर सका। क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट 10 टेस्ट मैचों में उन्होंने 51 की औसत से 663 रन स्कोर किए हैं। इस तरह मिताली क्रिकेट प्रेमियों के दिलों में हमेशा से राज करती रही हैं।


 
Top