क्षेत्रीय

Blog single photo

मप्र : परिवहन मंत्री के आश्वासन पर चौथे दिन ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल समाप्त

08/10/2019

मुकेश तोमर
भोपाल, 08 अक्टूबर (हि.स.)। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल पर बढ़ाए गए पांच फीसदी वैट को वापस लेने समेत पांच सूत्रीय मांगों को लेकर तीन दिन से चल रही ट्रांसपोर्टरों की अनिश्चितकालीन हड़ताल मंगलवार को चौथे दिन खत्म हो गई। दरअसल, मंगलवार दोपहर राज्य के परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने ट्रांसपोर्टरों के साथ बैठक की और लम्बी बातचीत के बाद उनकी मांगों को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया, इसके बाद ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशनों ने हड़ताल वापस लेने की घोषणा की।

मध्यप्रदेश में गत शनिवार को ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल शुरू हुई थी, जो मंगलवार को दोपहर तक चली। इस दौरान प्रदेशभर में साढ़े दस लाख ट्रकों के पहिये पूरी तरह थमे रहे, जिससे लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। टैंकर संचालकों ने भी इस हड़ताल को समर्थन दिया था, जिससे कई पेट्रोल-पम्पों पर पेट्रोल-डीजल समाप्त हो गया। ट्रक-टैंकर के पहिए थमने से रोजमर्रा की जरूरत की वस्तुओं की आपूर्ति पर कई जगह असर दिखने लगा था। खासकर सब्जियों और फल की बाजार में कमी होने से उनके दाम आसमान पर पहुंच गए थे। राज्य सरकार ने आनन-फानन में जिला प्रशासन को सक्रिय किया और कलेक्टरों ने अधिकारियों की निगरानी में पेट्रोल पम्पों पर पेट्रोल-डीजल की सप्लाई कराई। इधर, परिवहन मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत ने मंगलवार को दोपहर ट्रांसपोर्टरों को बुलाया और बैठक कर उनकी समस्याएं सुनीं। बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन एसएन मिश्रा और उप सचिव आशीष भार्गव भी मौजूद रहे। परिवहन मंत्री ने ट्रांसपोर्टरों की मांगों को मानते हुए पेट्रोल-डीजल पर बढ़ाए गए वैट को वापस लेने का आश्वासन दिया। इसके बाद ट्रांसपोर्टरों ने अपनी हड़ताल वापस लेने की घोषणा की।

ट्रक ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय शर्मा ने बताया कि परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के साथ बैठक के बाद एसोसिएशन ने अनिश्चितकालीन हड़ताल वापस लेने का निर्णय लिया है। सरकार ने एसोसिएशन की मांगों को मान लिया है। परिवहन मंत्री ने कहा कि वे वित्त मंत्री को पत्र लिखकर डीजल पर बढ़े वैट को कम करने के लिए कहेंगे। वहीं, अन्य मांगों पर भी वे मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे और उनका जल्द निराकरण किया जाएगा। इधर, एसोसिएशन द्वारा हड़ताल समाप्त करने की घोषणा के बाद प्रशासन ने भी राहत की सांस ली।

मध्यप्रदेश में पिछले चार दिनों से चल रही ट्रांसपोर्टर्स की हड़ताल का मध्यप्रदेश में व्यापक असर देखने को मिला। हड़ताल के चलते ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा प्रदेश के नागरिकों द्वारा बुक किए गए करोड़ों ऑर्डर कैंसल कर दिए गए। इंदौर और आस-पास के इलाकों में पेट्रोल की किल्लत होने से लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। त्यौहार पर आवश्यक सामान की आपूर्ति पूरी तरह ठप हो गई थी, लेकिन ट्रांसपोर्टरों द्वारा हड़ताल वापस लेने की घोषणा के बाद लोगों ने भी राहत की सांस ली।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top