अपराध

Blog single photo

झारखंड : कुख्यात अपराधी अमन श्रीवास्तव गिरोह के 11 सदस्य गिरफ्तार

14/01/2020

-चार पिस्टल, तीन देसी कट्टा और 70 गोलियां बरामद

विकास पांडेय 
रांची, 14 जनवरी (हि.स.)। लातेहार पुलिस ने कुख्यात अपराधी अमन श्रीवास्तव गिरोह के 11 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार अपराधियों में मुकेश कुमार साव उर्फ प्रभात जी, महमूद मियां, महमूद आलम उर्फ नेपाली, रजाक अंसारी, सौरभ सिन्हा उर्फ विक्की वर्मा, अमरजीत पासवान, कुर्बान अंसारी, सुदर्शन नायक, राजेश कुमार मिश्रा, संजय गंझू और अंकित किशोर नाथ शाही शामिल हैं। इनके पास से दो नाइन एमएम की पिस्टल, एक 7.62 का पिस्टल, तीन देसी कट्टा, 70 गोलियां, 12 मोबाइल फोन, छह मैगज़ीन और पांच बाइक बरामद की गई है।

दक्षिणी छोटानागपुर जोन के डीआईजी अमोल वेणुकांत होमकर ने मंगलवार शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि विगत कई महीनों से अपराधी अमन श्रीवास्तव गिरोह की ओर से लातेहार और सीमावर्ती जिलों में सक्रिय रहकर कोयला व्यवसायी तथा अन्य ठेकेदारों से रंगदारी वसूलने का काम किया जा रहा था। रंगदारी की रकम बढ़ाने और नए -नए लोगों से रंगदारी वसूलने के नियत से क्षेत्र में दहशत फैलाने के लिए इस ग्रुप की ओर से विगत दिनों कई हत्याएं, आगजनी और गोलाबारी की घटना को अंजाम दिया गया था। इससे इस क्षेत्र में व्यवसायियों में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया था , जिससे विधि व्यवस्था की समस्या भी उत्पन्न हो गई थी। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए लातेहार एसपी प्रशांत आनंद के नेतृत्व में अमन श्रीवास्तव गिरोह के सदस्यों का पता लगाकर उनकी गिरफ्तारी करने तथा उनकी गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए विशेष छापेमारी टीम का गठन किया गया।
एसपी के नेतृत्व में विशेष छापेमारी टीम की ओर से एसएसपी रांची, हजारीबाग एसपी और चतरा एसपी संयुक्त रूप से समन्वय और आवश्यक सहयोग प्राप्त कर गिरोह के किए गए कांडों एवं गिरोह के सदस्यों से संबंधित जानकारी एकत्र करते हुए उनकी गिरफ्तारी के लिए संयुक्त रूप से तक तत्परता पूर्वक प्रयास किया जाने लगा। टीम ने सबसे पहले मुकेश साहू को बालूमाथ के जारी मोड़ से गिरफ्तार किया। उसने पूछताछ करने पर न केवल अमन श्रीवास्तव गिरोह की ओर से अंजाम दिए जाने वाले घटनाओं के संबंध में बताया बल्कि इस गिरोह के अधिकतर अपराधी सदस्यों के बारे में भी जानकारी देते हुए भविष्य में किए जाने वाले घटनाओं की योजना के बारे में भी बताया। सूचना के आधार पर पुलिस टीम की तीन टीम बनाकर इस गिरोह के शेष व्यक्तियों की गिरफ्तारी के लिए आदेश दिया गया। सभी टीम ने पूरी सावधानी बरतते हुए राजेश मिश्रा, संजय गंझु, अंकित किशोर नाथ शाही को हथियार और गोली के साथ चंदवा थाना क्षेत्र के बिराटोली कोल साइडिंग से गिरफ्तार किया। इन लोगों ने अपने आपको अमन श्रीवास्तव गैंग का सदस्य बताया। 

डीआईजी ने बताया कि राजेश मिश्रा की सूचना पर काली मैदान के पास से किसी आपराधिक घटना को अंजाम देने की योजना बनाते हुए महमूद मियां, महमूद आलम उर्फ नेपाली, रजाक अंसारी, सौरव सिन्हा उर्फ विक्की वर्मा, अमरजीत पासवान, कुर्बान अंसारी और सुदर्शन नायक को हथियार और गोली के साथ गिरफ्तार किया गया। इस प्रकार अब तक इस गिरोह के कुल ग्यारह अपराधी पकड़े गए और उनके पास से सात हथियार, 70 गोली और चार मोटरसाइकिल 12 मोबाइल फोन बरामद किया गया। अब तक पकड़ाए सभी व्यक्तियों ने अपने आपको अमन श्रीवास्तव गिरोह का सदस्य बताया है। साथ ही अपराधियों ने कई घटनाओं में अपनी संलिप्तता भी स्वीकार की है। इस गिरोह के सरगना अमन श्रीवास्तव और उसके गैंग के शेष बचे अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी जारी है। 
गिरोह के सदस्यों ने इन घटनाओं को दिया था अंजाम
डीआईजी ने बताया कि गिरोह के सदस्यों ने इन घटनाओं में अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। ईद में वर्ष 2018 में हजारीबाग से बरही फोर लाइन रोड निर्माण में लगे कॉन्ट्रैक्टर का अपहरण कर सेंट कोलंबस कॉलेज से चूरचूर जाने वाले रास्ते में रखकर हथियार के बल पर लेवी देने के लिए मजबूर करने, वर्ष 2018 के दिसंबर माह में बालूमाथ थाना क्षेत्र के फुलवरिया पोल साइडिंग पर पहुंचकर वहां कार्यरत मुंशी और मजदूर के साथ मारपीट कर उनका मोबाइल लूटने और कोयलांचल का माफिया गैंगस्टर अमन श्रीवास्तव की लिखित पर्चा छोड़ने, वर्ष 2019 के जनवरी माह में उरीमारी में न्यू बिरसा कोइलरी के विस्थापित नेता सोनाराम माझी को जान मारने की धमकी देने, वर्ष 2019 के फरवरी माह में उरीमारी में न्यू बिरसा कोइलरी के विस्थापित नेता दसई माझी द्वारा रंगदारी नहीं देने के कारण उन पर जान मारने की नियत से गोली चलाने, वर्ष 2019 जून को बड़कागांव थाना क्षेत्र के नापो खुर्द में कार्यरत प्रभा एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड के साइट पर लेवी का पैसा नहीं देने के कारण कंपनी की खड़ी गाड़ियों पर गोलीबारी करने, वर्ष 2019 के माह जुलाई के प्रथम सप्ताह में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के चानो रोड में गैंग द्वारा सड़क निर्माण करने वाली कंपनी के इंजीनियर को हथियार के बल पर रंगदारी की मांग करने, वर्ष 2019 के माह दिसंबर में गैंग द्वारा बालूमाथ थाना क्षेत्र के कोयला व्यवसाई युगल गंजू को गोली मारकर हत्या करने, वर्ष 2019 के माह दिसंबर में गैंग द्वारा चंदवा थाना क्षेत्र के कोयला व्यवसाई रवि को जान मारने की नीयत से गोली मारने सहित अन्य मामले शामिल है। 

रिमांड पर लेकर होगी पूछताछ
डीआईजी ने बताया कि  गिरफ्तार अपराधियों को रिमांड पर लेकर गिरोह की पूरी जानकारी एकत्र की जाएगी। साथ ही गिरोह के सरगना अमन श्रीवास्तव के बारे में जानकारी एकत्र की जाएगी। डीआईजी ने बताया कि मुकेश कुमार साव उर्फ प्रभात जी पर 9 मामले दर्ज हैं। इनमें हत्या रंगदारी और आर्म्स एक्ट के मामले शामिल हैं। मुकेश अमन श्रीवास्तव और महमूद लगातार संपर्क में रहता था। उन्होंने बताया कि महमूद मियां पर दो मामले और महमूद आलम उर्फ नेपाली पर एक मामला दर्ज हैं।

टीपीसी से भी लिंक खंगाल रही पुलिस
गिरफ्तार संजय गंझू पहले उग्रवादी संगठन तृतीय प्रस्तुति कमेटी (टीपीसी) का सदस्य था। पुलिस गिरोह के टीपीसी संगठन से जुड़े होने की लिंक भी खंगाल रही है। *गिरोह के सदस्यों को मिलती थी छह हजार की सैलरी* डीआईजी ने बताया कि अब तक की पूछताछ में पता चला है कि अमन श्रीवास्तव गिरोह के सदस्यों को छह हजार रुपये सैलरी दी जाती है। उन्होंने बताया कि लातेहार, रामगढ़, हजारीबाग, चतरा और रांची में पूरी तरह से सक्रिय है। गिरोह के सदस्य का दूसरे जिले के सदस्यों से कोई संपर्क नहीं है। 

छापेमारी में ये पुलिसकर्मी थे शामिल
डीआईजी ने बताया कि छापेमारी टीम में बालूमाथ के एसडीपीओ रणबीर सिंह, लातेहार के एसडीपीओ वीरेंद्र राम, महुआ डांड के एसडीओ रति भान सिंह, चंदवा थाना प्रभारी मदन कुमार शर्मा, लातेहार थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता, बालूमाथ थाना प्रभारी सुभाष पासवान, थाना प्रभारी नित्यानंद कुमार मनिका थाना प्रभारी प्रभाकर मुंडा, जगदेव पहन तिर्की, लाल चंद्र बेदिया, राजकुमार तिग्गा, कुमार सुमित यादव, रोहित कुमार महतो सहित सशस्त्र बल शामिल थे।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top