राष्ट्रीय

Blog single photo

ममता ने 18 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा-बंगाल के लोगों की करें मदद

26/03/2020

ओम प्रकाश
कोलकाता, 26 मार्च (हि.स.)। देश में लॉकडाउन होने से देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे पश्चिम बंगाल के लोगों के संबंध में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 18 मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने मुख्यमंत्रियों से बंगाल के लोगों को हर तरह की मदद देने की अपील की है।

अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने लिखा है कि बंगाल के कई श्रमिक पूरे देश में हुए लॉकडाउन की वजह से विभिन्न राज्यों में फंस गये हैं और वापस बंगाल नहीं आ पा रहे हैं। आमतौर पर ऐसे श्रमिक 50-100 के समूह में हैं। उन्हें स्थानीय प्रशासन की सहायता से आसानी से चिह्नित किया जा सकता है। चूंकि बंगाल सरकार का फिलहाल उन तक पहुंचना संभव नहीं है इसलिए उन्हें रहने, खाने और चिकित्सकीय सुविधा मुहैया की जाये। दूसरे राज्यों के लोगों की ऐसी ही देखभाल वह बंगाल में भी कर रही हैं। मुख्यमंत्री ने लिखा है कि इस बाबत उनके मुख्य सचिव संबंधित राज्य के मुख्य सचिव को तथ्य देंगे ताकि संकट की इस घड़ी में मानवीय सहायता पहुंचायी जा सके।

मुख्यमंत्री ने यह पत्र तमिलनाडु के मुख्यमंत्री इके पलानीस्वामी, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, केरल के सीएम पिनारयी विजयन, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगनमोहन रेड्डी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखा है। ममता ने सभी से अपील की है कि वहां रहने वाले बंगाल के मजदूरों को हर तरह की मदद की जाए। 

उल्लेखनीय है कि बुधवार को कई राज्यों के मजदूरों ने वीडियो जारी किया था। इसमें मूल रूप से केरल का वीडियो वायरल हुआ था जिसमें हजारों मजदूर एक मंदिर के अंदर शरण लिए हुए थे। उनके रहने और खाने की व्यवस्था नहीं थी। बाहर निकलने पर पुलिस पीट रही थी, इसलिए वे काफी परेशान थे।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top