अपराध

Blog single photo

राजस्थान : बहरोड़ थाने पर एके-47 से हमला कर साथी को छुड़ाया, पूरा थाना लाइन हाजिर

10/09/2019

मधुकर वाजपेयी
नई दिल्ली, 10 सितम्बर (हि.स.)। एके- 47 ऐसी स्वचालित राइफल है, जो आम जन के लिए प्रतिबंधित है। इसके बावजूद किसी के पास एके-47 होना और एके-47 चलाकर अपने साथी को थाने के लॉक अप से छुड़ा ले जाना अपराधियों के बढ़ते हौसले को दिखाता है। ताजा मामला राजस्थान के बहरोड़ थाने का है, जहां शुक्रवार को फिल्मी स्टाइल में एके-47 से फायरिंग करते हुए बदमाश अपने साथी को छुड़ा ले गए।

दरअसल राजस्थान के अलवर जिलान्तर्गत बहरोड़ थाने में पुलिस ने एक अपराधी को लॉकअप में बंद कर रखा था। हरियाणा के इस कुख्यात अपराधी का नाम पपला गुर्जर है। इसके सिर पर पांच लाख रुपये का इनाम है। पपला को भगाने के लिए अपराधियों ने बहरोड़ थाने पर एके-47 से हमला किया। स्विफ्ट कारों में सवार होकर आए बदमाशों ने थाने पर कम से कम 30-40 राउंड फायर किये और हवालात का ताला तोड़कर पपला को साथ लेकर फरार हो गए। हालांकि इस मामले में पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लग रहा है। 

राजस्थान पुलिस ने अब इस मामले में बड़ा एक्शन लेते हुए डीएसपी समेत पूरे थाने के स्टॉफ को दंडित किया है। थानाधिकारी सुगन सिंह को निलंबित कर दिया है। थाने के 2 हेड कांस्टेबलों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। 69 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर किया गया है।

थानाध्यक्ष सुगन सिंह पर अपराधियों से मिली भगत का आरोप लग रहा है। आरोप है कि सुगन सिंह की जानकारी में ये सब कुछ हुआ। डीएसपी जनेश सिंह पर आरोप है कि वो अपराधियों की स्कॉर्पियो अपने काम के लिए इस्तेमाल करते थे। इस मामले में डीएसपी जनेश सिंह पर भी गाज गिरी है। उनको एपीओ बनाया गया है यानी उनकाे पदावनत कर दिया गया है। 

बहरोड़ में डीएसपी अतुल साहू लगाए गए हैं जबकि भिवाड़ी में नवाब खान को जयपुर से डीएसपी के पद पर भेजा गया है। जिन लोगों पर कार्रवाई हुई है, जांच होने तक उनमें से किसी को भी कोई पोस्टिंग नहीं मिलेगी। साथ ही अलवर जिले में बहरोड़ और भिवाड़ी में राजस्थान पुलिस ने 27 हेड कांस्टेबल और 95 कांस्टेबलों की अतिरिक्त तैनाती की है। 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top