क्षेत्रीय

Blog single photo

चीफ जस्टिस की बेंच ने आधे घंटे में लगभग 550 केसों का किया निस्तारण

09/07/2019

चीफ जस्टिस की बेंच ने आधे घंटे में लगभग 550 केसों का किया निस्तारण

-विद्याकान्त 
प्रयागराज, 09 जुलाई (हि.स.)। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने आपराधिक मामलों में दर्ज एफआईआर को रद्द करने व गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग को लेकर दाखिल लगभग साढ़े पांच सौ याचिकाओं को आधे घंटे में निस्तारित कर दिया है।

कोर्ट ने प्राथमिकी पर हस्तक्षेप करने से इंकार करते हुए याचियों से सीआरपीसी की धारा 438 के तहत अग्रिम जमानत के लिए अधीनस्थ न्यायालय में दो सप्ताह के भीतर अर्जी दाखिल करने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने दो सप्ताह के लिए याचियों की गिफ्तारी पर रोक लगा दी है। यह आदेश मुख्य न्यायाधीश गोविन्द माथुर तथा न्यायमूर्ति विवेक वर्मा की खंडपीठ ने हनुमंत राय उर्फ सौरभ दुबे व 6 अन्य सहित सैकड़ों  याचिकाओं को निस्तारित करते हुए दिया है। कोर्ट ने कहा है कि प्राथमिकी के आरोपों को देखते हुए हस्तक्षेप का कोई आधार नहीं है। जब कोर्ट ने मुख्य मांग स्वीकार नहीं की तो अन्य पर निर्देश देना उचित नहीं रहेगा। याची को अपनी गिरफ्तारी पर रोक लगाने का वैकल्पिक फोरम उपलब्ध है। यदि वह अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल करता है तो 25 जुलाई तक गिरफ्तार न किया जाय।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top