लेख

Blog single photo

भारतीय शास्त्रों-ग्रन्थों के पश्चिमी अनुवाद के मजहबी निहितार्थ

05/11/2019

मनोज ज्वाला

पनिवेशकाल से लेकर आज तक पश्चिम के कई विद्वानों ने भारतीय वाङगमय के विविध ग्रन्थों का विभिन्न भाषाओं में अनुवाद किया है। सर्वाधिक अनुवाद जर्मन, अंग्रेजी, फ्रेन्च और पुर्तगाली भाषाओं में हुए हैं। इस अनुवाद को हम हमारे शास्त्रों-ग्रन्थों की वैश्विक व्यापकता-स्वीकार्यता और उनके प्रति पश्चिमी विद्वानों की अभिरुचि मान स्वयं को गौरवान्वित महसूस करते हैं। लेकिन यह नहीं जानते और न जानने की कोशिश ही करते हैं कि उन्होंने अनुवाद क्यों किया है और क्या किया है। आमतौर पर यही समझा जाता है कि दूसरी भाषा के लोग भी अनुदित ग्रन्थ से ज्ञान हासिल कर सकें। इसलिए किसी भाषा के ग्रन्थ का अनुवाद किया जाता है।
ज्ञान-विज्ञान के प्रसार की दृष्टि से यह आवश्यक भी है और सराहनीय भी। मूल ग्रन्थ की सामग्री के शब्दों का ऐसा अनुवाद, जिससे उनके मौलिक अर्थ और भावार्थ न बदले, वही उत्कृष्ट माना जाता है। किसी अनुवाद में अनुदित शब्दों के मूलार्थ और भावार्थ बदल जाने से उस मूल ग्रन्थ की स्थापनाएं भी बदल जाती हैं। इस कारण ऐसे अनुवाद को निकृष्ट और निन्दनीय माना जाता है। इस मापदण्ड पर पश्चिमी अनुवाद किस स्तर का और कितना विश्वसनीय है यह जानने के लिए उस अनुवाद-कर्म की पृष्ठभूमि और उसका उद्देश्य जानना जरूरी है।
मालूम हो कि पश्चिमी विद्वानों द्वारा भारतीय ग्रन्थों के अनुवाद किये जाने का दौर तब शुरू हुआ, जब यूरोपीय साम्राज्यवादी उपनिवेशवाद के तहत भारत ब्रिटेन का उपनिवेश बन चुका था। ब्रिटिश उपनिवेशकों के साथ भारत आये ईसाई धर्म-प्रचारक मिशनरियों से सम्बद्ध विद्वानों-भाषाविदों ने इसकी शुरुआत की। किन्तु, उनके उस अनुवाद का उद्देश्य भारतीय धर्म-शास्त्रों से यूरोप के आम जनमानस को अवगत कराना नहीं था, बल्कि ईसाई धर्म-प्रचारकों को भारतीय राष्ट्रीयता अर्थात सनातन धर्म के तत्वों से साक्षात्कार कराना था। ताकि, वे ईसाइयत के प्रचारार्थ मार्ग-निर्धारण कर सकें। संस्कृत-साहित्य के अध्ययन से जब उन्हें यह ज्ञात हुआ कि बाइबिल में धर्म का एक बूंद मात्र है, जबकि संस्कृत-साहित्य के किसी भी ग्रन्थ में धर्म का महासागर है। तब उन्होंने भारत में प्रचलित 'भाषा-विज्ञान' के समानान्तर 'तुलनात्मक भाषा-विज्ञान' का प्रतिपादन कर संस्कृत से यूरोपीय भाषाओं की तुलना करते हुए यह मनगढ़ंत निष्कर्ष प्रचारित-घोषित कर-करा दिया कि संस्कृत भाषा तो ग्रीक और लैटिन से निकली हुई है। इसी तरह से उन्हें जब संस्कृत साहित्य में वर्णित आर्यों की श्रेष्ठता का भान हुआ, तब उन्होंने 'नस्ल विज्ञान' का प्रतिपादन कर यह झूठ स्थापित किया कि 'आर्य' यूरोप मूल के थे। यूरोपीय आर्य नस्ली तौर पर शुद्ध और आध्यात्मिक तौर पर ईसाइयत की आभा से अभिमण्डित हैं। जबकि, भारतीय आर्य निम्नस्तरीय ही नहीं, बल्कि यूरोपियन आर्यों के संसर्ग से उत्पन्न मिश्रित नस्ल के हैं। इस कारण वे पतित होकर मूर्तिपूजक एवं बहुदेववादी हो गए। इस क्रम में उन्होंने साम्राज्यवादी उपनिवेशवाद को उचित ठहराने के लिए उपनिवेशित (गुलाम) देशों के निवासियों को बाइबिल की एक कथा के आधार पर नूह के तीन पुत्रों में से दो के अधीन रहने के लिए अभिशापित हेम का वंशज होने की कथा प्रचारित कराई। इसी पृष्ठभूमि पर पश्चिमी चिन्तकों-भाषाविदों ने ईसाइयत की श्रेष्ठता और उपनिवेशवाद की अनिवार्यता सिद्ध करने के लिए उपरोक्त आधारहीन तथ्यों की पुष्टि के लिए दुनिया के सबसे प्राचीन भारतीय धर्मशास्त्रों-ग्रन्थों में ही साक्ष्य प्रक्षेपित करने के छद्म उद्देश्य से उनका अनुवाद किया। जिसकी विश्वसनीयता कितनी क्षीण है इसे परखने के लिए सिर्फ कुछ उदाहरणों पर गौर करना ही पर्याप्त है।
भारतीय शास्त्रों-ग्रन्थों का योजनापूर्वक अनुवाद करने वालों में विलियम जोन्स और फ्रेडरिक मैक्समूलर के नाम काफी प्रसिद्ध हैं। पश्चिमी अनुवादों का गहन अध्ययन करने वाले अध्येता और लेखक राजीव मलहोत्रा ने अपनी पुस्तक- 'ब्रेकिंग इण्डिया' में लिखा है- 'विलियम जोन्स ने संस्कृत के अपने अनुवादों को कुछ इस तरह से करने का प्रयास किया कि वे यूनानी-रोमी ढांचे में सटीक बैठें। उसने हिन्दू देवताओं और यूनानी-रोमी मूर्तिपूजकों के बीच अनेक समानताओं की श्रृंखला बनाई। उसने समझाया कि सभी सभ्यताएं 'हैम' की वंशज थीं, जो पतित होकर मूर्तिपूजक बन गई। अन्ततः ईसाइयत के द्वारा यूनानी-रोमी लोगों को पतन से बचा लिया गया (ईसाई बनाकर), किन्तु हिन्दू मूर्तिपूजक ही बने रहे।'
सन 1794 में मनुस्मृति का अंग्रेजी अनुवाद करने वाले जोन्स ने ईसाइयत की आध्यात्मिकता को पुष्ट करने के उद्देश्य से हिन्दुत्व और ईसाइयत के बीच समानता को स्थापित करने के लिए सनातन धर्म-ग्रन्थों (संस्कृत-ग्रन्थों) का उपयोग ईसाइयत के समर्थन में तर्क गढ़ने के लिए किया। उसने शब्दों की ध्वनियों से संयोगवश प्रकट होने वाली समानता के बाहरी आवरण के सहारे रामायण के 'राम' को बाइबिल के 'रामा' से जोड़ दिया और राम के पुत्र 'कुश' को बाइबिल के 'कुशा' से। इसी तरह की कई संगतियों को खींच-तान कर उसने यह प्रतिपादित किया कि बाइबिल-वर्णित नूह के जल प्लावन के बाद राम ने भारतीय समाज का पुनर्गठन किया। इसलिए भारत बाइबिल से जुड़ी सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक है। उसने बाइबिल में वर्णित बातों को सत्य प्रमाणित करने के लिए संस्कृत-ग्रन्थों से उसकी पुष्टि करने की दृष्टि से उनका अनुवाद किया है। इस क्रम में उसने 'मनु' को 'एडम' घोषित कर दिया और विष्णु के प्रथम तीन अवतारों को नूह के जल-प्लावन की कहानी में प्रक्षेपित कर दिया। इस विलक्षण वर्णन में उसने बाइबिल में वर्णित- 'नाव पर सवार आठ मनुष्यों' को मनुस्मृति के 'सप्त-ऋषियों' से जोड़ दिया।
जोन्स के संस्कृत अनुवादों की विशेषता यह रही है कि सनातन धर्म के जो तत्व बाइबिल के सांचे में सटीक रूप से नहीं बैठे, उन्हें जबरन सटीक बैठाने के लिए उसने तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा और जो तत्व उसके बाद भी सटीक नहीं बैठ पाए, उन्हें मिथक या अंधविश्वास कहकर उसने नकार दिया। मालूम हो कि जोन्स ने ईसाइयत की विश्वसनीयता बढ़ाने के लिए भारतीय धर्म-ग्रन्थों का तदनुसार इस्तेमाल करने के निमित्त 'एशियाटिक सोसायटी' नामक संस्था की भी स्थापना कर रखी थी, जो उसके बाद उसके मिशन को आगे बढ़ाती हुई आज भी सक्रिय है। उसके इस कार्य के लिए ईस्ट इण्डिया कम्पनी द्वारा उसके मरणोपरान्त इंग्लैण्ड के सेंट पाल चर्च में मनुस्मृति को थामे हुए उसकी एक प्रतिमा स्थापित कर उसे सम्मानित किया गया था।
विलियम जोन्स के बाद भारतीय शास्त्रों-ग्रन्थों के अनुवाद से उसके मिशन को आगे बढ़ाने वालों में फ्रेडरिक मैक्समूलर का नाम सर्वाधिक प्रसिद्ध रहा है, जिसने वेदों का भी अनुवाद किया। आर्यों के यूरोपीय मूल के होने सम्बन्धी पूर्व कल्पित-प्रायोजित पश्चिमी कुतर्कों की स्थापना को मजबूती प्रदान करने वाले मैक्समूलर का काम कितना विश्वसनीय है, यह जानने के लिए उसके दो निजी पत्रों पर गौर करना पर्याप्त है। 16 दिसम्बर 1868 को ओर्गोइल के ड्यूक, जो ब्रिटेन में एक मंत्री थे को लिखे पत्र में मैक्समूलर कहता है- 'भारत का प्राचीन धर्म पूरी तरह ध्वस्त हो गया है। ऐसे समय में अगर ईसाइयत यहां पैर नहीं जमाती तो यह किसकी गलती होगी?' उसी वर्ष अपनी पत्नी को लिखे पत्र में उसने लिखा है- '...मैं उम्मीद करता हूं कि मैं इस कार्य को सम्पन्न करूंगा और आश्वस्त हूं कि मैं वह दिन देखने के लिए जीवित नहीं रहूंगा। फिर भी मेरा यह संस्करण और वेदों का अनुवाद आज के बाद भारत के भविष्य और इस देश में मनुष्यों के विकास को बहुत सीमा तक प्रभावित करेगा। वेद उनके धर्म का मूल है और वह मूल क्या है, इसे उन्हें दिखाने के लिए मैं कटिबद्ध हूं। जिसका सिर्फ एक रास्ता है कि पिछले तीन हजार वर्षों में जो कुछ भी इससे निकला है उसे उखाड़ दिया जाए।'
ऐसे में अब आप समझ सकते हैं कि औपनिवेशिक सत्ता के सहारे स्थापित और प्रचार-माध्यमों के सहारे प्रतिष्ठित हुए इन पश्चिमी विद्वानों-भाषाविदों ने भारतीय शास्त्रों-ग्रन्थों का जो अनुवाद किया है, वह कितना षड्यंत्रकारी है।
(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।)


 
Top