राष्ट्रीय

Blog single photo

देश में वित्तीय आपातकाल घोषित करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

26/03/2020

संजय कुमार
नई दिल्ली, 26 मार्च (ह‍ि.स.)। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशभर में किए गए 21 दिनों के लॉकडाउन को देखते हुए वित्तीय आपातकाल घोषित करने की मांग करने वाली एक याचिका सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है। याचिका में मांग की गई है कि केंद्र सरकार संविधान की धारा 360 के तहत वित्तीय आपातकाल घोषित करे। याचिकाकर्ता के वकील इस याचिका पर सुनवाई के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई की कोशिश कर रहे हैं।

याचिका सेंटर फॉर अकाउंटेबिलिटी एंड सिस्टमेटिक चेंज (सीएएससी) ने दायर किया है। याचिका में कहा गया है कि लॉकडाउन को अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा-144 या आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत नोटिफिकेशन या महामारी रोग अधिनियम 1897 के प्रावधानों के मुताबिक नहीं लगाया जा सकता है। याचिका में कहा गया है कि यह एक वैश्विक महामारी है, जिससे जिला स्तर पर नहीं निपटा जा सकता है बल्कि इससे जनता और सरकार को साथ मिलकर लड़ना चाहिए।

याचिका में कहा गया है कि प्रधानमंत्री की ओर से 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा के बाद गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत 24 मार्च को आदेश जारी किया था। लेकिन विभिन्न राज्यों और पुलिस अधिकारियों की ओर से अपने तौर पर अपराध प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत कार्रवाई की जा रही है। विभिन्न एजेंसियों की ओर से उठाए गए कदम अराजकता का कारण बन रहे हैं।

याचिका में कहा गया है कि यह स्वतंत्र भारत की सबसे बड़ी आपात स्थिति है। इसे लेकर केंद्र और राज्य सरकारों के बीच एकीकृत आदेश के मुताबिक संवैधानिक प्रावधानों के मुताबिक कार्य करना चाहिए। याचिका में कहा गया है कि इससे न केवल कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई जीतना जरूरी है बल्कि लॉकडाउन खत्म होने के बाद देश की अर्थव्यवस्था की रिकवरी भी होगी।

याचिका में कहा गया है कि वित्तमंत्री ने 1.7 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया है। इस पैकेज के बेहतर उपयोग के लिए वित्तीय आपातकाल घोषित करना होगा। याचिका में उपयोगी सेवाओं के बिलों के भुगतान और लॉकडाउन अवधि के दौरान भुगतान किए जाने वाले ईएमआई के निलंबन की मांग की गई है। गृह मंत्रालय के निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन करने के लिए राज्य पुलिस और स्थानीय अफसरों को निर्देश दिया जाए ताकि आवश्यक सेवाएं बाधित न हों।

ह‍िन्‍दुस्‍थान समाचार


 
Top