व्यापार

Blog single photo

एफआरडीआई बिल पर हो रहा काम, कर व्यवस्था सरल बनाना सरकार का मकसद : वित्‍त मंत्री

07/02/2020

प्रजेश शंकर

नई दिल्‍ली/मुंबई,  07 फरवरी (हि..)। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार ने बजट में टैक्सपेयर्स चार्टर पेश किया गया हैजिसका मकसद देश में टैक्स व्यवस्था को आसान बनाना है। उद्योग के प्रतिनिधियों और अर्थशास्त्रियों के साथ एक बैठक के बाद यहां संवाददाता सम्मेलन में शुक्रवार को सीतारमण ने कहा कि कराधान व्यवस्था नागरिकों के साथ विश्वास पर आधारित होनी चाहिए। इसीलिए टैक्सपेयर्स चार्टर लाया गया है।

उन्‍होंने कहा कि वित्त मंत्रालय विवादित वित्तीय समाधान एवं जमा बीमा (एफआरडीआई) विधयेक पर काम कर रहा है। लेकिन, ये तय नहीं है कि इसे संसद में कब पेश किया जाएगा। सीतारमण ने कहा कि टैक्सपेयर्स चार्टर के मुताबिक कराधान की पूरी प्रक्रिया को हम कितना सरल और टैक्सपेयर्स को कितना दबाव मुक्‍त रखना चाहते हैं। उन्‍होंने बताया कि इससे अंततः टैक्स का  एक सरल और न्यूनतम संभावित स्तर सामने आता है।

चार्टर टैक्सपेयर्स के अधिकारों तथा टैक्स डिपार्टमेंट के कर्तव्यों को पारिभाषित करता है। वित्त मंत्री ने ये भी कहा कि इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर निर्माण के लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म के फायदे भी हैं और सरकार इसके प्रति पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने बताया कि हम राज्यों और निजी निवेशकों के साथ भी काम कर चुके हैं और 6,400 करोड़ रुपये से अधिक की इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर परियोजनाएं पाइपलाइन में हैं।

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते बजट पेश करते हुए सीतारमण ने यह घोषणा की थी कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटीएक 'टैक्सपेयर चार्टर'  का अनुसरण करेगाजिससे टैक्सपेयर और टैक्स विभाग के बीच भरोसा सुनिश्चित होगा और करदाताओं की परेशानी घटेगी।

एफआरडीआई विधेयक पर मंत्रालय कर रहा है काम

सीतारमण ने कहा कि वित्त मंत्रालय विवादित वित्तीय समाधान एवं जमा बीमा (एफआरडीआई) विधेयक पर काम कर रहा है। लेकिन, अभी यह तय नहीं है कि इसे संसद में कब पेश किया जाएगा। वित्त मंत्री का ये बयान जमा बीमा में 5 गुना की वृद्धि और दिवाला कानूनों में हालिया बदलावों के लिहाज से अहम है। गौरतलब है कि बजट में जमा बीमा को 5 गुना कर एक लाख रुपये से पांच लाख रुपये किया गया है।

हिन्‍दुस्‍थान समाचार 


 
Top