युगवार्ता

Blog single photo

कार्यों का मिलेगा फल

01/10/2019

कार्यों का मिलेगा फल

कृष्णमोहन सिंह

शेरशाह सूरी ने अपने 5 वर्ष के राजकाज में कोलकाता से पेशावर तक सड़क बादशाही (आज की जीटी रोड) बनवाने का निर्णय लिया। अपने वित्त मंत्री दीपचन्द शाह, जो काशी के रमन निवास परिवार के पूर्वज थे, की मदद से पूरा किया। 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गाजीपुर के सांसद मनोज सिन्हा को रेल राज्यमंत्री बनाया। सिन्हा ने साढ़े चार वर्ष में पूर्वी उत्तर प्रदेश व बिहार में रेलवे का जितना कार्य कराया उतना कार्य इन दोनों राज्यों में अब तक नहीं हुआ था। तमाम स्टेशनों का कायाकल्प करा दिया।
वाराणसी और गाजीपुर के स्टेशनों को तो सितारा स्टेशन बना दिया। इसके बावजूद 2019 के चुनाव में गाजीपुर संसदीय क्षेत्र के तमाम अहसान फरामोश लोग हत्या, अपहरण, उगाही के आरोपी प्रत्याशी को जिता दिया। जबकि सबको लगता था कि इस बार लोग उनके किये विकास कार्यों के चलते सिर माथे लगायेंगे। उसके बाद और अचरज तब हुआ जब उनको केन्द्रीय मंत्रिमंडल में भी नहीं लिया गया। जबकि कई ऐसे लोगों को लिया गया जिनका न तो कोई आधार है, न जनता से जुड़ाव।
अब क्षेत्र के वे तमाम राजपूत, भूमिहार व यादव मतदाता अपने किये पर अफसोस जता रहे हैं कि एक मेहनती राजनीतिक के बजाय क्रिमिनल को वोट देकर बहुत बड़ी गलती की। पूर्वांचल तथा बिहार के बहुत से लोगों की तरह वे भी उम्मीद कर रहे हैं कि शीतकालीन सत्र के पहले संभावित मंत्रिमंडल विस्तार में मनोज सिन्हा को प्रधानमंत्री मंत्री बनायेंगे। प्रधानमंत्री ने हाल ही में हुए एक कार्यक्रम में उनके कार्यों की प्रशंसा भी की थी।


 
Top