राष्ट्रीय

Blog single photo

पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती गंगोत्री से गंगासागर की पदयात्रा के दौरान हुईं चोटिल

18/11/2019

विक्रम सिंह 
ऋषिकेश, 18 नवम्बर ( हि.स.)। गंगोत्री से गंगासागर तक साढे़ पांच महीने तक पदयात्रा का संकल्प कर निकलीं पूर्व केंद्रीय मंत्री व भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती के गोमुख से ऋषिकेश तक साढे़ 300 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर पहुंचने पर जहां संतों ने उनका भव्य स्वागत किया। वहीं उमा भारती ऋषिकेश बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित ब्रह्मपुरी स्थित श्रीराम तपस्थली आश्रम में बाथरूम से बाहर आते हुये फिसल जाने से घायल हो गईं, जिन्हें सोमवार की सुबह जॉली ग्रांट स्थित हिमालयन इंस्टीट्यूट में उपचार को भर्ती कराया गया है। 

बताया गया कि उमा भारती श्री राम तपस्थली आश्रम में बाथरूम से बाहर निकलते हुए फिसल गई थीं जिससे उनकी ऐंडी में चोट आई है। यह जानकारी अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हरीश द्विवेदी ने देते हुए बताया कि चोट के कारण उनके पांव में सूजन भी आ गई है। उन्हें आराम की सलाह दी गई है । उमा भारती का कहना था कि यह पदयात्रा उनकी निजी यात्रा है। इसे निकाले जाने का उन्होंने स्वयं संकल्प किया था। इस यात्रा को देखते हुए उन्होंने एक बार अपने को लोकसभा चुनाव से ही मुक्त रखा है।

उमा भारती गोमुख से ऋषिकेश से 350 किलोमीटर की पदयात्रा कर चुकी हैं जिसमें 70 किलोमीटर चढ़ाई यात्रा डोली के माध्यम से की गई है। उनका कहना था कि इस यात्रा के दौरान वह कहीं भी मां गंगा का रास्ता नहीं काटेंगी, जरूरत पड़ेगी तो वह रास्ता बदलकर यात्रा को पूरा करेंगी। यात्रा को पूरा करने के लिए उनका साढे़ 5 महीने का समय लगेगा। इस यात्रा में वह संतों का सानिध्य भी प्राप्त कर रही हैं । उनका कहना था कि उन्होंने इस प्रकार की यात्रा जब वह 8 वर्ष की थीं, उस समय भी की थी। इसका उन्हें अच्छा अनुभव है। 
हिन्दुस्थान समाचार 

 


 
Top