राष्ट्रीय

Blog single photo

भारतीय वायुसेना में उड़ान भरने लगे अमेरिकी चिनूक हेलीकॉप्टर

21/02/2020

- लद्दाख क्षेत्र में सियाचिन ग्लेशियर क्षेत्र सहित उच्च ऊंचाई वाले स्थानों पर सैन्य उपकरण पहुंचाने के कार्य में लगाया गया 

सुनीत निगम
नई दिल्ली, 21 फरवरी (हि.स.)। डबल इंजन होने की वजह से काफी शक्तिशाली माने जाने वाले अमेरिकी मूल के चिनूक हेलीकॉप्टरों ने अब भारतीय वायुसेना के लिए कार्य करना शुरू कर दिया है। पिछले साल 25 मार्च को वायुसेना के बेड़े में शामिल हुए चिनूक हेलीकॉप्टरों को लद्दाख क्षेत्र में सियाचिन ग्लेशियर क्षेत्र सहित उच्च ऊंचाई वाले स्थानों पर सैन्य उपकरण पहुंचाने के कार्य में लगाया गया है। 

भारत ने सितम्बर, 2015 में बोइंग कम्पनी के साथ 8,048 करोड़ रुपये में 15 सीएच-47एफ़ चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदने का करार किया था। इन 15 हेलीकॉप्टर में से चार भारत को 2019 में मिल चुके हैं। बाकी हेलीकॉप्टर इस साल तक भारत को मिलने की उम्मीद है। इन चारों हेलीकॉप्टरों को 25 मार्च, 2019 को भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल किया गया था। खुद अमेरिका इनका महत्वपूर्ण ऑपरेशनों में इस्तेमाल करता है। अमेरिका ने 2 मई, 2011 को पाकिस्तान के एब्टाबाद में घुसकर लादेन का खात्मा करने के लिए चिनूक हेलीकॉप्टरों का ही इस्तेमाल किया था।

हालांकि ये हेलीकॉप्टर 1962 से प्रचलन में हैं लेकिन बोइंग ने समय-समय पर इनमें सुधार किया है, इसलिए आज भी करीब 26 देशों की सेनाएं इनका इस्तेमाल करती हैं। 

वायुसेना के बेड़े में शामिल करते वक्त तत्कालीन एयर चीफ़ मार्शल बीएस धनोआ ने कहा था कि देश की सुरक्षा से जुड़ी चुनौतियों को देखते हुए चिनूक हेलीकॉप्टर बेहद अहम साबित होगा। इनकी मदद से भारतीय वायुसेना ऊंचे और दुर्गम इलाकों में भारी भरकम साजो सामान ले जाने में सक्षम हो सकेगी। अमेरिका के डेलावेयर में चार हफ़्ते चिनूक हेलीकॉप्टर उड़ाने की ट्रेनिंग ले चुके आशीष गहलावत बताते हैं कि चिनूक हेलीकॉप्टर में दो रोटर इंजन लगे होने से यह तेजी से 20 हजार फीट की ऊंचाई तक 315 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरने में सक्षम है। इसकी खासियत है कि यह बेहद घनी पहाड़ियों में भी सफ़लतापूर्वक काम करता है। चॉपर के नीचे तीन हुक लगेे होने से चिनूक हेलीकॉप्टर 11 टन तक का भार उठाने और किसी भी तरह के मौसम का सामना करने में सक्षम है। 

दरअसल यह हेलीकॉप्टर छोटे हेलीपैड और घनी घाटियों में भी उतर सकता है। इन्हीं खूबियों के चलते भारतीय वायुसेना ने अब दुर्गम और ऊंचे इलाकों में अपनी टुकड़ियों को पहुंचाने और सेना को हथियार आसानी से मुहैया कराने का कार्य चिनूक से लेना शुरू कर दिया है। 

इन देशों के पास है ‘चिनूक’ 
फरवरी 2007 में पहली बार नीदरलैंड अमेरिका से 17 चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदकर पहला विदेशी ग्राहक बना था। इसके बाद 2009 में कनाडा ने सीएच-47एफ के 15 अपग्रेड वर्जन हेलीकॉप्टर खरीदे थे। दिसम्बर 2009 में ब्रिटेन ने भी 24 चिनूक हेलीकॉप्टर खरीदे। 2010 में ऑस्ट्रेलिया ने पहले सात और फिर तीन सीएच-47डी हेलीकॉप्टर खरीदे थे। 2016 में सिंगापुर ने 15 हेलीकॉप्टर का ऑर्डर कंपनी को दिया था। अब तक कुल 26 देशों के पास ये हेलीकॉप्टर मौजूद है।

हिन्दुस्थान समाचार



 
Top