क्षेत्रीय

लालबाजार अभियान के दौरान पुलिस और भाजपा समर्थकों में झड़प, लाठी चार्ज में कई घायल.

12/06/2019

ओम प्रकाश
कोलकाता, 12 जून (हि.स.)। पश्चिम बंगाल के विभिन्न इलाके में  भाजपा  कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ बुधवार को पार्टी की ओर से कोलकाता पुलिस मुख्यालय लालबाजार का घेराव किया गया। इस दौरान पुलिस मुख्यालय की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे भाजपा कर्मियों को रोकने की कोशिश कर रही पुलिस के साथ पार्टी समर्थकों की झड़प हो गई। बाद में स्थिति को काबू में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। जिसमे भाजपा के कई कार्यकर्ता घायल बताए जा रहे हैं। इसके अलावा पार्टी के महासचिव राजू बनर्जी को चोट आई है, भाजपा कर्मियों ने उन्हें कंधे पर उठाकर भीड़ से निकाला और बाद में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 
पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगाते हुए पार्टी के महासचिव और प्रदेश प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, पूर्व केंद्रीय मंत्री और दुर्गापुर-बर्दवान लोकसभा केंद्र से सांसद एसएस अहलूवालिया, सांसद लॉकेट चटर्जी सहित पार्टी के कई  नेता लबाजार के पास सेंट्रल एवेन्यू में सड़क किनारे ही धरने पर बैठ गए । ये सभी नेता मुरलीधर लेन स्थित प्रदेश भाजपा मुख्यालय से सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ताओं को साथ लेकर नारेबाजी करते हुए लालबाजार की ओर बढ़ रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें सेंट्रल एवेन्यू पर बलपूर्वक रोक दिया जिसके बाद धरने पर बैठ गए। 

दो जगहों पर पुलिस ने जमकर किया लाठी चार्ज 
लालबाजार से महज ढाई सौ की दूरी पर स्थित बीबी गांगुली स्ट्रीट को पुलिस ने सुबह 11 बजे बंद कर बैरिकेडिंग कर दी थी लेकिन दोपहर 1:00 बजे के करीब हजारों की संख्या में सुबोध मलिक स्क्वायर के पास एकत्रित हुए भाजपा कार्यकर्ता हाथों में पार्टी का झंडा, बैनर, पोस्टर लेकर ममता बनर्जी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए लालबाजार की ओर बढ़ने की कोशिश करने लगे। लेकिन चंद मीटर के फासले पर ही  पुलिस ने उन्हें  रोक दिया। इस दौरान पुलिसकर्मियों और कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। भाजपा कार्यकर्ता पुलिस की  बैरिकेडिंग को तोड़ने लगे जिसकी वजह से उन्हें तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया। इसमें महिलाओं समेत कई लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। हालांकि इसके बाद भी भाजपा कार्यकर्ता पीछे नहीं हटे जिसके बाद पुलिस ने वाटर केनन का इस्तेमाल किया और आंसू गैस के गोले दागे। पुलिस की सख्ती से गुस्साये भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिसकर्मियों पर जमकर पथराव  किया  जिसमे तीन पुलिसकर्मी घायल बताए जा रहे हैं।  कुछ देर चली झड़प के बाद  पुलिस भाजपाइयों को तितर-बितर करने में सफल रही। उधर   पुलिस मुख्यालय से करीब 300 मीटर की दूरी पर स्थित फीयर्स लेने में भी पुलिस ने त्रिस्तरीय बैरिकेडिंग की थी लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़ दिया और नारेबाजी करते हुए लालबाजार की ओर बढ़ने लगे। इन्हें रोकने के लिए पुलिसकर्मियों ने चैन बनाकर भाजपा कर्मियों को पीछे धकेलना शुरू कर दिया। इस दौरान भाजपा कार्यकर्ता पुलिस से उलझ गए। दोनों तरफ से एक दूसरे पर हमले किए जाने लगे जिसके बाद हालात को संभालने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। 

मुख्यालय के गेट पर पहुंच गई दो महिला कार्यकर्ता 
उधर पुलिस को चकमा देकर महिला मोर्चा की दो कार्यकर्ता लालबाजार के गेट पर पहुंच गई थीं। उन्होंने भी वहां जाकर नारेबाजी शुरू कर दी जिसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। अभियान में शामिल पार्टी के दर्जनों कार्यकर्ता हिरासत में ले लिये गये। 

केंद्र सरकार को रिपोर्ट सौंपेगी भाजपा
कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के उकसावे पर कानून व्यवस्था पूरी तरह से खत्म हो गई है। यहां गुंडाराज चल रहा है और मुख्यमंत्री को खुश करने के लिए पुलिस भी हमें लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल नहीं करने दे रही। उन्होंने कहा कि बर्बर तरीके से भाजपा कर्मियों को मारा पीटा गया है। इसके खिलाफ केंद्र सरकार और केंद्रीय नेतृत्व को रिपोर्ट भेजा जाएगा।

दरअसल राज्य में कानून व्यवस्था की बदहाली का दावा करते हुए पार्टी की ओर से कोलकाता पुलिस मुख्यालय का घेराव करने की योजना बनाई गई थी। बुधवार सुबह से ही  पुलिस मुख्यालय से करीब 300 मीटर की दूरी पर स्थित सुबोध मल्लिक स्क्वायर पर भाजपा कर्मियों का जमावड़ा होना शुरू हो गया था। हावड़ा और सियालदह स्टेशनों पर राज्य के विभिन्न हिस्सों से पहुंचे भाजपा के हजारों कार्यकर्ता रैली करके सुबोध मल्लिक स्क्वायर पहुंचे थे। इधर पुलिस ने इन्हें रोकने के लिए लालबाजार से देर से 200 मीटर की दूरी पर बैरिकेडिंग कर त्रिस्तरीय घेरा बना दिया था। सामने की और अल्युमिनियम की बैरिकेडिंग की गई थी जबकि उसके पीछे तीन हजार पुलिसकर्मियों को अलग-अलग जगहों पर तैनात किया गया था। तीसरे नंबर पर वाटर केनन तथा आंसू गैस ब्रिगेड को तैनात किया गया था। 

 हिन्दुस्थान समाचार