क्षेत्रीय

Blog single photo

सरकार गिराने की कोशिश करने वालों को बर्दाश्त नहीं करूंगी : ममता

10/06/2019

ओम प्रकाश
कोलकाता, 10 जून (हि.स.) । पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लागू किए जाने की आशंकाओं के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चेतावनी दी है कि उनकी सरकार गिराने की कोशिश करने वालों को वे बर्दाश्त नहीं करेंगी।  
मुख्यमंत्री ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में कहा, "पश्चिम बंगाल सरकार को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। तमाम तरह कs षड्यंत्र रचे जा रहे हैं। राज्य में 2021 में विधानसभा का चुनाव होने वाला है। उसके पहले अगर किसी भी तरह से सरकार को गिराने की कोशिश की गई तो इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।" 
तणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता ने चेतावनी देते हुए कहा कि याद रखना चाहिए कि घायल शेर मरे हुए शेर से ज्यादा खतरनाक होता है। 
उधर, राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने सोमवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। राज्यपाल ने मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘मैंने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को पश्चिम बंगाल की मौजूदा स्थिति से अवगत करा दिया है। इस बारे में इसके अतिरिक्त मैं और कुछ भी जानकारी नहीं दे सकता।’’
पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा की घटनाओं को लेकर केन्द्रीय गृह मंत्रालय की ओर से रविवार को राज्य सरकार को एडवाइजरी जारी किए जाने के एक दिन बाद राज्यपाल का प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से मिलना काफी अहम माना जा रहा है।
उत्तर 24 परगना के बसीरहाट के संदेशखाली में भाजपा के पांच कार्यकर्ताओं की शनिवार को गोली मारकर हत्या कर दिए जाने के मामले में केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने ममता सरकार से रिपोर्ट तलब की थी। इसके साथ ही एडवाइजरी जारी कर कानून-व्यवस्था की बदहाली को संभालने की सलाह दी गयी थी। इस पर राज्य के मुख्य सचिव मलय दे ने चिट्ठी लिखकर केन्द्र को गोलमोल जवाब दिया है। इस मुद्दे पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने भी केन्द्रीय गृहमंत्री को चिट्ठी लिखी है। इसमें कहा गया है कि भाजपा पश्चिम बंगाल में पिछले कई महीनों से हिंसक माहौल बनाने की कोशिश कर रही है। बिगत छह महीने से चुनाव प्रक्रिया की वजह से राज्य की कानून-व्यवस्था लागू करने वाली एजेंसियां ठीक से काम नहीं कर सकी हैं। तृणमूल कांग्रेस ने चिट्ठी में दावा किया है कि संदेशखाली इलाके में तीन दिन पहले से ही भाजपा के नेताओं ने हिंसा की साजिश रची थी। 
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इन हत्याओं के पीछे तृणमूल कांग्रेस का हाथ बताया था। 
हिन्दुस्थान समाचार


 
Top