युगवार्ता

Blog single photo

अब शिवकुमार निशाने पर

12/08/2019

अब शिवकुमार निशाने पर

कृष्णमोहन सिंह

डी.के. शिवकुमार कर्नाटक में कांग्रेस के संकट मोचक माने जाते हैं। वह राज्य के धनी नेताओं में से एक और कनकपुरा विधानसभा सीट से विधायक हैं। राज्य में कांग्रेस के विधायकों को एकजुट रखने में उनकी प्रमुख भूमिका रही है। लेकिन भाजपा ने बीते माह कांग्रेस व जद (एस) के विधायकों को तोड़कर या उनकी अंतरात्मा को जागृत करके विधानसभा से इस्तीफा दिलवाकर येदियुरप्पा के नेतृत्व में अपनी सरकार बना ली। जिन विधायकों ने इस्तीफा दिया है, उनके विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा। कब होगा इसका निर्णय अभी नहीं हुआ है।
लेकिन चुनाव के पहले शिवकुमार को कसने की कार्रवाई शुरू हो गई है, क्योंकि वह यदि सक्रिय रहे तो कांग्रेस कई सीट जीत सकती है। शिवकुमार कई बार कह चुके हैं कि उन पर बहुत दबाव है। आयकर, ईडी, सीबीआई आदि एजेंसियों से प्रतिदिन एक या दो पत्र किसी न किसी संदर्भ में आ रहे हैं। 15 से 20 वर्ष पहले के विदेश दौरे के बारे में पूछा जा रहा है। हालत यह है कि 15 से अधिक कर्मचारी उन्हीं पत्रों का जवाब देने, संबंधित दस्तावेज जुटाने में लगे रहते हैं। इस सबके बावजूद शिवकुमार अभी टूटे नहीं हैं। उन्हें डर है कि उप चुनाव के पहले उनको गिरतार किया जा सकता है।


 
Top