क्षेत्रीय

Blog single photo

सीबीआई ने दुधवा नेशनल पार्क के एसडीओ समेत तीन कर्मियों को किया तलब

02/12/2019

- खनन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई ने वन विभाग के खंगाले रिकार्ड 
सीबीआई के तल्ख तेवर देख मौरंग कारोबारियों के साथ अधिकारियों में हड़कंप

पंकज मिश्रा
हमीरपुर, 02 दिसम्बर (हि.स.)। प्रदेश में करीब एक हजार रुपये के खनन घोटाले को लेकर सीबीआई ने सोमवार की शाम दुधवा नेशनल पार्क, लखीमपुर खीरी में तैनात एसडीओ और वन विभाग के रिटायर्ड सर्वेयर समेत तीन लोगों को तलब किया है। सीबीआई ने वन विभाग के एक अधिकारी को तलब करके अभिलेखों की जांच पड़ताल की। सीबीआई के तल्ख तेवर देख मौरंग कारोबारियों के साथ अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ हैं। 

हमीरपुर जिले के सरीला वन क्षेत्र में तौफीक अहमद रेंजर के पद पर वर्ष 2011 में तैनात रहे हैं। वन रेंजर अशोक कुमार मिश्रा के बाद इन्होंने भी मौरंग खनन के पट्टों के लिये जारी होने वाली एनओसी में रिपोर्ट लगाई थी। तौफीक अहमद कुछ साल बाद आगरा स्थानांतरित हो गये थे। मौजूदा समय में वह लखीमपुर खीरी के दुधवा नेशनल पार्क में एसडीओ हैं। सीबीआई ने इन्हें पूछताछ के लिये मंगलवार को कैम्प ऑफिस में तलब किया है। हमीरपुर के वन विभाग में तैनात एसडीओ संजय शर्मा को आज मायावती और अखिलेश सरकार में मौरंग के जारी पट्टों में दी गयी एनओसी और अन्य अभिलेखों के साथ तलब करके पूछताछ की गयी। अभिलेखों को खंगालने के बाद एसडीओ से वर्ष 2010 में सरीला वन क्षेत्र में तैनात रहे सर्वेयर परमलाल साहू व वन विभाग के कार्यालय के डिस्पैच लिपिक हबीब बाबू को भी तलब किया है। ये दोनों कर्मचारी काफी समय पहले रिटायर्ड हो चुके हैं। 

डीएफओ नरेन्द्र सिंह ने देर शाम बताया कि डिस्पैच बाबू हबीब व वन सर्वेयर परमलाल साहू को सीबीआई ने पूछताछ के लिये बुलवाने को कहा है। ये दोनों सेवानिवृत्त हो गये हैं इसलिए इनके घरों में पत्र भेजा गया है। डिस्पैच लिपिक हबीब बाबू ने वर्ष 2010 से कई सालों तक पत्रों को डिस्पैच किया था। मौरंग खनन के पट्टों से सम्बन्धित पत्रों का रखरखाव भी यही करते थे। सर्वेयर परमलाल साहू ने भी बैंदा दरिया सहित अन्य मौरंग खनन के पट्टों को लेकर अपनी रिपोर्ट दी थी। इसीलिये इन्हें भी सीबीआई ने तलब किया है। 

पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष का मुनीम भी तलब
सीबीआई ने सोमवार को दोपहर बाद पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित के मुनीम जितेन्द्र पाण्डेय को भी कैम्प ऑफिस में तलब करके पूछताछ की है। माना जा रहा है कि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष व उनके अन्य रिश्तेदारों के बारे में जानकारी ली गई है जो नोटिस भेजे जाने के बाद भी सीबीआई टीम के सामने नहीं आ रहे हैं। इस मामले में आईएएस बी. चन्द्रकला, एमएलसी रमेश मिश्रा, खनिज अधिकारी व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष समेत 11 लोग सीबीआई की एफआईआर में नामजद हैं।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top