राष्ट्रीय

Blog single photo

एनटीपीसी और ओएनजीसी अक्षय ऊर्जा व्यापार के लिए शुरू करेंगे नया उपक्रम

22/05/2020

अजीत पाठक

नई दिल्ली, 22 मई (हि.स.)। नेशनल थर्मल पॉवर कार्पोरेशन (एनटीपीसी) लिमिटेड और ऑयल एंड नेचुरल गैस कार्पोरेशन (ओएनजीसी) लिमिटेड अक्षय ऊर्जा व्यापार के लिए एक संयुक्त उपक्रम कंपनी शुरू करने जा रहे हैं। इसके लिए सार्वजनिक क्षेत्र की दोनों कंपनियों के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

ऊर्जा मंत्रालय के तहत सार्वजनिक कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड और पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तहत आने वाली ओएनजीसी इस नए उपक्रम के जरिए अब ऊर्जा क्षेत्र में अपनी मौजूदगी को तेजी से आगे बढ़ने में सक्षम होंगी।

समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर एनटीपीसी के निदेशक (वाणिज्यिक) एके गुप्ता और ओएनजीसी के निदेशक (वित्त) एवं व्यापार विकास तथा संयुक्त उपक्रम के प्रभारी सुभाष कुमार ने किए। समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर की यह गतिविधि वर्चुअल कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एनटीपीसी के मुख्य प्रबंधक निदेशक (सीएमडी) गुरदीप सिंह और ओएनजीसी के प्रबंध निदेशक (सीएमडी)  शशि शंकर की उपस्थिति में हुई। इस मौके पर दोनों कंपनियों के अन्य निदेशक और अधिकारी भी मौजूद थे।

समझौते के अनुसारएनटीपीसी औरओएनजीसी भारत और विदेश में ऑफशोर विंड और अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं कीस्थापना से जुड़ी संभावनाओं का पता लगाएंगी। दोनों कंपनियां संवहनीयता भंडारणई-परिवर्तनीयता और ईएसजी (पर्यावरणीयसामाजिक एवं प्रबंधन) के अनुकूल परियोजनाओं के क्षेत्र में भी संभावनाओं का पता लगाएंगी।

एनटीपीसी के पास अभी 920 मेगावाट की स्थापित अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं हैं और लगभग 2300 मेगावाट की अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं अभी निर्माण की प्रक्रिया में हैं। इस समझौते से एनटीपीसी अपनी अक्षय ऊर्जा क्षमता योग कार्यक्रम में तेजी लाएगी और ऑफशोर विंड और विदेश में अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं में अपनी मौजूदगी का विस्तार करेंगी। इससे भारत की सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी एनटीपीसी को 2032 तक 32 गीगा वाट (जीडब्ल्यू) अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी।

ओएनजीसी के पास अभी 176 मेगा वाट की अक्षय ऊर्जा परियोजनाएं हैं जिसमें 153 मेगावाटपवन ऊर्जा और 23 मेगावाट सौर ऊर्जा शामिल हैं। इस नए समझौते से अक्षय उर्जा व्यापार में ओएनजीसी की मौजूदगी बढ़ेगी और 2040 तक यह अपने पोर्टफोलियो में 10 गीगा वाट (जीडब्ल्यू) अक्षय उर्जा जोड़ने का अपना लक्ष्य हासिल करने में सक्षम होगी।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top