चुनाव

Blog single photo

मध्‍य प्रदेश विधानसभा के उपचुनावों में ग्वालियर-चंबल सीटों पर सबकी नजरें

10/11/2020

डॉ. मयंक चतुर्वेदी
भोपाल, 10 नवम्‍बर (हि.स.)। मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा उपचुनावों में मतगणना के दौरान रुझानों में सत्तारूढ़ दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 18 और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस 09 और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) 01 सीट पर आगे चल रही है। हालांकि पूर्व में 28 में से 28 सीटें जीतने का कांग्रेसी दावा अब कमजोर पड़ने लगा है। पूर्व में जो कांग्रेसी नेता पूरी सीटें जीतने का दावा कर रहे थे, जिसमें कि पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ और दिग्‍विजय सिंह व उनकी सत्‍ता में रहे सभी बड़े मंत्री शामिल हैं, अब इस तरह की बात कहने से बचते नजर आ रहे हैं। 

भाजपा के 12 मंत्रियों में से अभी रुझानों में 09 मंत्री मतगणना में आगे दिखाई दे रहे हैं।  इन सभी 28 सीटों में से 16 सीटें ग्वालियर चंबल से ही आती हैं,  जिसमें कांग्रेस-भापा की बराबर की टक्‍कर जारी है। साथ ही तीसरी पार्टी बसपा भी 02 सीटों पर आगे चल रही है। उससे साफ नजर आ रहा है कि यहां बसपा 2018 विधानसभा चुनाव की तरह ही प्रमुख स्‍थ‍िति में रहेगी । तब ग्वालियर चंबल की 16 में से 7 सीटों पर बसपा के उम्मीदवारों ने काफी निर्णायक व सम्मान जनक वोट हासिल किए थे । इस बार भी बसपा को उपचुनाव का गेम चेंजर माना जा सकता हैं। भले ही वह चुनाव न जीत सकें लेकिन दोनों पार्टियों के वोट ज़रूर वह बड़ी संख्‍या में काटती नजर आ रही है।  मुरैना सीट पर बसपा प्रत्याशी अभी आगे चल रहे हैं। 

इस पूरे चंबल क्षेत्र सहित ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया समर्थक भाजपा सरकार में मंत्री तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत, प्रभु राम चौधरी, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, गिर्राज दंडोतिया, ओपीएस भदौरिया, सुरेश धाकड़, बृजेंद्र सिंह यादव, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, ऐंदल सिंह कंसाना, बिसाहूलाल सिंह और हरदीप सिंह डंग पर सबकी नजर बनी हुई है।

इन सभी में फिलहाल पूर्व मंत्री तुलसी सिलावट, गोविंद सिंह राजपूत और मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रदुम्न सिंह तोमर, बृजेंद्र सिंह यादव, इमरती देवी, प्रभुराम चौधरी, हरदीप सिंह डंग, राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, सुरेश धाकड़ और बिसाहूलाल आगे चल रहे हैं।  

सिंधिया खेमे के तीन मंत्री ओपीएस भदौरिया, गिर्राज दंडोतिया और ऐंदल सिंह कंसाना पीछे हैं। सिंधिया के प्रभाव वाले चंबल के मुरैना की 5 सीटों में से 3 सीटों पर भाजपा पीछे है।  इसलिए कहा जा रहा है कि इस समय मध्‍यप्रदेश में हुए उपचुनावों का नया राजनीतिक केंद्र अब ग्वालियर-चंबल को ही माना जा रहा है, यहीं से तय होगा कि सत्ता की कुर्सी पर कौन काबिज होगा? फिलहाल  ग्वालियर की तीनों सीट पर भाजपा आगे है। 
हिन्‍दुस्‍थान समाचार


 
Top