क्षेत्रीय

Blog single photo

उप्र में कोरोना से ज्यादा तेजी से बढ़ रहे ठीक होने वाले मरीज

18/05/2020

- राज्य में 1,763 कोरोना संक्रमित मरीज, 2,636 बेहतर इलाज से हुये ठीक

संजय सिंह 
लखनऊ, 18 मई (हि.स.)। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों के बीच ठीक होने वाले मरीजों की संख्या सरकार के लिए राहत बनी हुई है। इलाज के बाद घर जाने वाले मरीजों और संक्रमित रोगियों का अन्तर लगातार बढ़ने से स्वास्थ्य महकमा भी सुकून महसूस कर रहा है। यह अंतर अब 900 के करीब पहुंच गया है।  

प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने सोमवार को बताया कि प्रदेश में इस समय कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1,763 है। बेहतर इलाज की बदौलत 2,636 मरीज ठीक होकर घर भेजे जा चुके हैं। इससे पहले रविवार को संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 1,805 और ठीक होने वाले लोगों की संख्या 2,444 थी। शनिवार को 1718 कोरोना संक्रमित मरीज और ठीक होने वाले लोगों की संख्या 2327 थी। वहीं शुक्रवार को संक्रमित मरीज 1773 और ठीक होने वाले 2080 लोग थे।

प्रदेश में अब तक कोरोना के 4,511 मामले आये सामने
प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य ने बताया कि राज्य में अभी तक कोरोना के कुल 4,511 मामले सामने आये हैं। वहीं 112 मरीजों की मौत हो चुकी है। रविवार को विभिन्न प्रयोगशालाओं में 6,247 कोरोना नमूनों की जांच की गई। वहीं 512 पूल जांच के लिए लगाये गये। इनमें 46 पूल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

आरोग्य सेतु अलर्ट को लेकर 17,000 से अधिक लोगों को फोन, 18 संक्रमित
उन्होंने बताया कि इसके साथ ही प्रदेश में बड़ी संख्या में लोग 'आरोग्य सेतु' एप को डाउनलोड कर रहे हैं। एप के जरिए जो भी अलर्ट मिल रहे हैं, उन्हें सम्बन्धित जनपदों को भेजा जा रहा है। वहीं कन्ट्रोल रूम के जरिए जो लोग संक्रमित लोगों के सम्पर्क में आये हैं, उन्हें फोन करके इसकी जानकारी दे रहे हैं। अभी तक 17,447 से अधिक लोगों को फोन किया जा चुका है। इन्हें उचित सलाह दी गई है। इनमें 109 लोगों को एकांतवास में रखा गया है। इनमें 18 की रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आने पर इलाज किया जा रहा है, जिसमें से 04 मरीज पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं। 

3.23 करोड़ लोगों के बीच पहुंची स्वास्थ्य टीमें
उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीमें लगातार विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के बीच पहुंचकर सर्वेश्रण कर रही हैं। 79,825 टीमें 65,5876 घरों के बीच सम्पर्क के लिए पहुंची है। इस दौरान 3,023,9498 लोगों से सम्पर्क किया है। लक्षण मिलने वालों की जांच करायी गई। उन्होंने बताया कि इस समय 1978 लोग आइसोलेशन वार्ड में हैं। वहीं 10,601 लोग फैसिलिटी क्वारंटाइन में हैं।

प्रवासी कामगारों का सर्वेश्रण, 466 संदिग्धों की जांच
प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य ने बताया कि प्रवासी कामगार प्रतिदिन बड़ी संख्या में प्रदेश में पहुंच रहे हैं। इनमें से कई कोरोना संक्रमण के अत्यधिक मामलों वाले स्थानों से भी आ रहे हैं। थर्मल स्क्रीनिंग के बाद जो लक्षणरहित होते हैं, उन्हें 21 दिन के घरेलू एकांतवास (होम क्वारंटाइन) पर भेजा जाता है। इसकी सुनिश्चितता हेतु एक ग्राम निगरानी समिति व मोहल्ला निगरानी समिति बनाई गई है।

ताकि ऐसे लोगों को घरेलू एकांतवास का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जा सके। निगरानी समितियों की इस कार्य में बड़ी भूमिका है। अब तक आशाओं द्वारा 4,11,770 से अधिक प्रवासी कामगारों का सर्वेश्रण किया जा चुका है। इनमें से 466  किसी न किसी लक्षण वाले मिले हैं। सर्दी, खांसी, जुकाम से लेकर सांस लेने में दिक्कत जैसी शिकायतें हैं। इन सभी का सैम्पल लेकर जांच करायी जा रही है।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top