युगवार्ता

Blog single photo

यॉर्कर मैन का वनडे से संन्यास

02/08/2019

यॉर्कर मैन का वनडे से संन्यास

 ओम प्रकाश

यॉर्कर किंग लसिथ मलिंगा को उनके फैन्स अब वनडे क्रिकेट खेलते नहीं देख पाएंगे। क्योंकि उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ वनडे करियर का आखिरी मुकाबला खेलकर एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। हालांकि टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते रहेंगे।

यॉर्कर मैन के नाम से मशूहर श्रीलंका के फास्ट बॉलर लसिथ मलिंगा 26 जुलाई को जब बांग्लादेश के खिलाफ कोलंबो में वनडे खेलने उतरे तो ये उनके एकदिवसीय करियर का आखिरी मैच था। मलिंगा को वनडे में आखिरी बार देखने के लिए कोलंबो का आर प्रेमदासा स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भरा था। स्टेडियम के चारों तरफ मलिंगा-मलिंगा के नारे गूंज रहे थे। गूंजे भी क्यों न इस स्टार गेंदबाज ने विश्व स्तर पर श्रीलंका का मान बढ़ाया है। अपने अंतिम एकदिवसीय मैच से पहले मलिंगा ने खुद सोशल मीडिया पर अपने फैन्स से गुजारिश करते हुए कहा था कि 26 जुलाई शुक्रवार को मैं आखिरी बार वनडे मैच खेलूंगा। आप सभी से निवेदन है मैच देखने जरूर आना।
एक समय ऐसा रहा जब श्रीलंका की जीत बल्लेबाज नहीं मलिंगा तय करते थे। उन्होंने अपनी बॉलिंग के दम पर श्रीलंका को दर्जनों मैच जिताए हैं। टीम में उनकी छवि हमेशा मैच विनर की रही। श्रीलंका के कप्तान का अक्सर यही मानना रहा कि मलिंगा हैं तो मैच जिता देंगे। मलिंगा ने टेस्ट क्रिकेट से ज्यादा तरजीह वनडे और टी20 क्रिकेट को दी। यही कारण रहा कि उन्होंने साल 2010 में ही टेस्ट क्रिकेट से तौबा कर ली। मलिंगा ने अपने टेस्ट करियर में 30 मैच खेले। जिनमें उन्होंने 101 विकेट हासिल किए। 50 रन देकर 5 विकेट आउट करना टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा। टेस्ट को अलविदा कहने के बाद उन्होंने पूरा ध्यान वनडे और टी-20 क्रिकेट पर केंद्रित किया। फिर क्या था मलिंगा ने एकदिवसीय क्रिकेट में अलग ही प्रतिमान स्थापित किए।
वनडे क्रिकेट में उनका जादू खूब चला। अपनी यॉर्कर गेंदों के जरिए उन्होंने बल्लेबाजों के खूब अंगूठे तोड़े। दुनिया का बड़े से बड़े बल्लेबाज मलिंगा की यॉर्कर गेंदें खेलने से कतराते रहे। उनके वनडे करियर पर नजर डाली जाए तो मलिंगा ने 226 एकदिवसीय मैच में 338 विकेट हासिल किए हैं। वनडे में उनका सर्वश्रेष्ठ बॉलिंग प्रदर्शन 38 रन देकर 6 विकेट लेने का रहा है। लसिथ मलिंगा वनडे में तीन हैट्रिक लगाने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज हैं। एकदिवसीय क्रिकेट में लगातार चार गेंदों पर चार विकेट लेने का रिकॉर्ड भी उनके नाम दर्ज है। उन्होंने ये रिकॉर्ड साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2007 क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान बनाया था। वसीम अकरम के बाद मलिंगा क्रिकेट में चार हैट्रिक पूरी करने वाले सिर्फ दूसरे गेंदबाज हैं। अकरम ने जहां चार हैट्रिक टेस्ट और वनडे में लीं। वहीं मलिका ने वनडे और टी-20 में ये रिकॉर्ड बनाया। इसके अलावा मलिंगा विश्व कप में सबसे तेज 50 विकेट पूरे करने वाले पहले बॉलर हैं। उन्होंने विश्व कप में ये 50 विकेट 26 पारियों में बॉलिंग करते हुए पूरे किए।
इसके अलावा क्रिकेट वर्ल्ड कप में सबसे अधिक विकेट हासिल करने वाले बॉलर्स में लसिथ मलिंगा 56 विकेट लेकर तीसरे नंबर पर हैं। इतना ही नहीं मलिंगा ने वनडे मैचों में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदेबाजों की सूची में 10वें स्थान पर हैं, उन्होंने वनडे मैचों में 338 विकेट लिए हैं और जाते-जाते भारतीय बॉलर अनिल कुंबले के वनडे विकटों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। अनिल कुंबले ने 271 मैचों में 337 विकेट लिए थे। वहीं श्रीलंका की तरफ से वनडे में सबसे अधिक विकेट लेने वाले वह तीसरे गेंदबाज हैं। सटीक यॉर्कर फेंकने वाले लसिथ मलिंगा ने बड़े मैचों में भी खूब विकेट उखाड़े हैं। 2 अप्रैल 2011 को जब भारत और श्रीलंका के बीच वानखेड़े स्टेडियम मुंबई में क्रिकेट वर्ल्ड कप का फाइनल मैच खेला जा रहा था तो उस खिताबी मुकाबले में मलिंगा ने वीरेंद्र सहवाग को शून्य और सचिन तेंदुलकर को 18 रनों पर आउट किया था। वहीं 2019 क्रिकेट विश्व कप में जब श्रीलंका के सभी बॉलर विकेट लेने के लिए तरस रहे थे, ऐसे में उन्होंने श्रीलंका के लिए सबसे अधिक 13 विकेट लिए।
इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम को लसिथ मलिंगा ने क्रिकेट वर्ल्ड कप मैच में अकेले हराया था। उस मैच में मलिंगा ने मारक बॉलिंग करते हुए 4 विकेट झटके थे। मलिंगा ने इंडियन प्रीमियर लीग में भी कमाल का प्रदर्शन किया है। वह आईपीएल में सबसे अधिक 170 विकेट लेने वाले दुनिया के इकलौते गेंदबाज हैं। 13 रन पर 5 विकेट हासिल करना उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। आईपीएल 2019 में जब ऐसा लगा कि चेन्नई खिताब जीत लेगा तो ऐसे नाजुक समय पर उन्होंने अपनी आखिरी गेंद पर विकेट हासिल कर मुंबई इंडियंस को आईपीएल 2019 का चैम्पियन बना दिया।


 
Top