राम जन्मभूमि

Blog single photo

कानपुर के रामलला मंदिर सहित पूरे शहर में रहा जश्न का माहौल, गुंजायमान होती रही जय श्रीराम की धुन

05/08/2020


 
कानपुर, 05 अगस्त (हि.स.)। अयोध्या में प्रभु श्रीराम का भव्य मंदिर बनने का जो सपना लोगों ने देखा था वह अब साकार होने जा रहा है। इसकी शुरुआत आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भूमि पूजन करके कर दी। ऐसे में गांव से लेकर शहर तक घर-घर पर जय श्रीराम गुंजायमान हो रहा है। मोहल्ले-मोहल्ले में लोगों ने कुछ-कुछ दूरी पर साउंड लगाकर भक्ति में डूबे हुए हैं और शाम को भव्य दीपोत्सव का कार्यक्रम हुआ। शहर में एक बार ऐसे लगने लगा कि मानो दीवाली का त्योहार है। छोटे-छोटे बच्चे पटाखे जलाकर खुशियां मना रहे हैं तो वहीं कानपुर के रामलला मंदिर में भी महापौर के साथ लोगों ने खुशी का इजहार किया। यहां पर अयोध्या का लाइव प्रसारण भी देखा गया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या में बुधवार को श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन किये। प्रधानमंत्री के भूमि पूजन करते ही शहर के चारों ओर से एक ही धुन सुनाई दे रही थी जय श्रीराम। जगह-जगह लोग अयोध्या में राम मंदिर बनने को लेकर खुशी में झूम रहे थे। शहर हो या गांव हर जगह उत्साह, उमंग और उल्लास नजर आ रहा है। यहां मंदिरों को दुल्हन की तरह सजाया गया है और शाम को भव्य दीपोत्सव कर दीवाली जैसे खुशी का इजहार किया गया। मंदिरों के साथ गली मोहल्लों के आज अखंड रामायण का समापन हुआ। पार्कों और गंगा घाटों पर भी दीप जलाए गये। घर-घर दीपावली जैसा उत्सव दिख रहा है और आतिशबाजी भी हो रही है। शहर के प्रमुख मंदिरों में एक रावतपुर के रामलला मंदिर में श्रीराम का अभिषेक किया गया। यहां पर महापौर प्रमिला पाण्डेय के साथ अयोध्या के भूमि पूजन का लाइव प्रसारण देखा गया। महापौर संग लोगों ने रामलला की आरती कर आज के दिन को एतिहासिक बताया। व्यवस्थापक राहुल सिंह चंदेल ने बताया कि यह कानपुर का एकलौता रामलला का मंदिर है जो सबसे पुराना है। वहीं महाराजपुर के सलेमपुर स्थित बाला जी मंदिर को रंग बिरंगी लाइटों से दुल्हन की तरह सजाया गया। जगह-जगह दीपों से जय-जय श्रीराम लिखा देख श्रद्धालु झूम रहे हैं। भक्तों में सवा क्विंटल लड्डू वितरण किया गया। समन्वय सेवा समिति के संयोजक संतोष अग्रवाल ने बताया कि श्री रामलला के मंदिर निर्माण का उत्सव भव्य तरीके से मनाया गया। आनंदेश्वर मंदिर के महामंडलेश्वर श्याम गिरि ने बताया कि मंदिर को रंग बिरंगी लाइटों से सजाया गया है। पांच सौ दीपों का दान किया गया और 51 किलो लड्डू का वितरण हुआ। पनकी हनुमान मंदिर के महंत जितेंद्र दास ने बताया कि मंदिर में सुंदरकांड का पाठ कर दीपोत्सव का आयोजन किया गया। 

हिन्दुस्थान समाचार/अजय/मोहित


 
Top