राष्ट्रीय

Blog single photo

दिल्ली में मंदिर तोड़े जाने से नाराज रविदासी समाज के साथ आई विहिप

11/08/2019

सुशील बघेल

नई दिल्ली, 11 अगस्त (हि.स.)। दिल्ली के तुगलकाबाद में प्रशासन द्वारा भगवान रविदास के मंदिर को तोड़े जाने से रविदासी समाज में खासा रोष व्याप्त है। गुस्साए लोगों ने दिल्ली से लेकर पंजाब तक में जगह-जगह सड़क पर यातायात बाधित कर प्रदर्शन किया। घटना के एक दिन बाद मामले की गंभीरता को देखते हुए विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने  भी मंदिर पुनर्निर्माण और रविदासी समाज के सम्मान बहाली तक आंदोलन में सहयोग का आश्वासन दिया है।

विहिप के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा कि दिल्ली सरकार ने हिंदुओं के आराध्य भगवान रविदास के तुगलकाबाद स्थित भव्य मंदिर को तोड़कर अपने दुस्साहस का परिचय दिया है। विहिप इसकी कठोरतम शब्दों में निंदा करती है तथा रविदासी समाज के सम्मान की बहाली तक इस आंदोलन को साथ लड़ने का संकल्प लेती है।

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार पर धर्म के आधार पर पूजा स्थलों के प्रति दोहरा रवैया अपाने का आरोप लगाते हुए आलोक कुमार ने कहा कि सरकार ने न्यायालय के निर्णय की आड़ में दशकों पुराने रविदास समाज के पुण्य स्थल को तो गिरा दिया किन्तु दिल्ली की ही अनेक अदालतों द्वारा जारी आदेशों की अनुपालना में कई मज़ारों व मस्जिदों को हाथ तक लगाने की हिम्मत नहीं की आखिर क्यों। इससे रविदास समाज ही नहीं अपितुसम्पूर्ण हिन्दू समाज बेहद आहत हुआ है।

आलोक कुमार ने कहा कि विश्व हिंदू परिषद रविदासी समाज के साथ खड़ा है और इस संघर्ष में समाज के सम्मान की बहाली तक हम उनके साथ मिलकर लड़ेंगे तथा आंदोलन को आगे बढ़ाएंगे।

उल्लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने तुगलकाबाद की उस भूमि पर जहां गुरु रविदास मंदिर स्थित था, उसे खाली कराने का आदेश दिया था। कोर्ट के आदेश पर सुरक्षा बलों की भारी तैनाती के बीच प्रशासन ने शनिवार को सुबह इस मंदिर को तोड़ दिया।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top