क्षेत्रीय

Blog single photo

पंजाब : विधायकों को कैबिनेट रैंक देने पर 'आप' ने कैप्टन सरकार को घेरा

10/09/2019

-खजाना खाली है, और सफेद हाथी क्यों बांध रहे हैं कैप्टन : भगवंत मान

संजीव शर्मा
चंडीगढ़,10 सितम्बर (हि.स.)। आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के प्रधान और संसद सदस्य भगवंत मान ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अपने छह विधायकों को मंत्री का दर्जा दिये जाने पर सख्त एतराज जताया है। उन्होंने इसे संविधान का सीधा उल्लंघन और खजाने की लूट बताया है।

मंगलवार को जारी बयान में भगवंत मान ने कहा कि बेरोजगार नौजवान रोजगार के लिए टंकियों पर चढ़ रहे हैं। आंगनबाड़ी केन्द्रों में दलितों-गरीबों के बच्चों को दो महीने से दलिया-रोटी नसीब नहीं हो रही। बुजुर्ग, विधवाएं और अपंग 2500 रुपये पेंशन और शिक्षित नौजवान रोजगार भत्ते को तरस रहे हैं। मनरेगा मजदूरों को लम्बे समय से दिहाड़ी नहीं दी जा रही। गरीब लोग पक्के घरों के लिए भटक रहे हैं। खेती और किसानी कर्जों का संकट और गहराता जा रहा है। ऐसे हालत में सरकार के पास एक ही जवाब रहता है कि खजाना खाली है। वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल अपने दफ्तर में चाय पिलाने को भी वित्तीय बोझ बताते हैं।

भगवंत मान ने कहा कि राज्य के वित्तीय हालत को देखते हुए फिजूल खर्ची घटाने का संदेश देने के बजाय कैप्टन अमरिन्दर सिंह 'शाही अंदाज' में सरकार चलाने में बादल सरकार से भी दो कदम आगे हैं। लोग पांच मरलेे के प्लाट लेने को तरस रहे हैं। कैप्टन ने सुखबीर बादल के साततारा होटल सुख विलास के बराबर 'सारागढ़ी' महल बना लिया। कर्ज माफी का वायदा किसानों के साथ किया था। 84 लाख की माफी रजिन्दर कौर भट्‌टल को दे दी। आरोप लगाया कि इसी तरह घर-घर नौकरी का वायदा पंजाब के योग्य नौजवानों के साथ किया था, नौकरी बेअंत सिंह के ओवरएज पोते को ही दे दी।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top