-बच्चा-बच्चा राम का जन्मभूमि के काम का..

मथुरा, 11 मार्च(हि.स.)। बच्चा-बच्चा राम का जन्म भूमि के काम का, जी हां ये कहावत अब सत्य हो चुकी है। 15 जनवरी मकर संक्रांति से प्रारंभ हुए राम मंदिर निर्माण निधि समर्पण अभियान ने विश्व रिकार्ड कायम किया है। इस अभियान के जरिये पूरे देश से 1500 करोड़ की धनराशि एकत्रित करने का संकल्प लिया गया था। जिसे भारत का हिन्दू समाज समेत अन्य पंथाव​लम्बियों ने उस लक्ष्य को पार करते हुए एक स्वर्णिम इतिहास रचा है। 

  इस अभियान में विश्व हिंदू परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ-साथ अन्य प्रकल्पों के माध्यम से हजारों कार्यकर्तओं ने अभियान को सफल बनाया। 
   
 इसी श्रृंखला में 10 मार्च को प्रान्तीय निधि समर्पण योजना का समापन कार्यक्रम वृन्दावन अक्षय पात्र फाउंडेशन में आयोजित किया गया। जिसमें समस्त प्रान्त के कार्यकर्ता मौजूद रहे। 

बैठक में समर्पण निधि से संबंधित जानकारी देते हुए बताया कि देशभर से अनुदान राशि एकत्रित की गई, जिसमें हिंदू धर्म के द्वारा मंदिर निर्माण हेतु विश्व में अनोखा इतिहास रचा गया है।

अभियान में श्री राम मंदिर निर्माण के लिए अनुमानित धन राशि की संख्या लगभग दोगुनी हो गई है। अनुमानित 1500 करोड़ रुपए से बढ़कर धनराशि 2800 करोड़ को पार कर गई और अभी राशि के अंक आगे भी बढ़ने की उम्मीद है। बताया कि कार्यकर्ताओं द्वारा घर-घर जाकर पर्ची के माध्यम से धनराशि इकट्ठा करना भले ही बंद कर दिया हो परंतु हिन्दू धर्म ही नहीं अनेकों राम भक्त अपने आराध्य प्रभु श्रीराम के मंदिर निर्माण में अपना अपना योगदान निभा रहे हैं। भविष्य के लिए मन्दिर निर्माण हेतु धनराशि भेजने की प्रकिया ऑनलाइन चालू रहेगा।

प्रान्त बैठक में मुख्य रूप से विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय संयुक्त मंत्री राघलू जी, अंतराष्ट्रीय संगठन महामंत्री विनयाक राव जी, अक्षयपात्र फाउंडेशन के प्रचार प्रमुख अनंत वीर्य दास प्रभु, विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष बच्चू सिंह जी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के  प्रान्त प्रचारक हरीश रौतेला, प्रान्त कार्यवाहक डॉ प्रमोद शर्मा, प्रान्त अभियान प्रमुख सुरेंद्र चौधरी जी, सह अभियान प्रमुख अशोक जी कुलश्रेष्ठ, विभाग प्रचारक धर्मेंद्र, कार्यवाहक संजय, जिला प्रचारक मनोज, जिला कार्यवाहक अरुण और कार्यक्रम के सर्वव्यवस्था प्रमुख प्रकाश सिंह के साथ साथ अनेकों पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 

हिन्दुस्थान समाचार/महेश 
You Can Share It :