राष्ट्रीय

Blog single photo

भारत-नेपाल के रिश्तों में खटास पर सिंघवी ने केंद्र सरकार को घेरा

21/05/2020

- कहा, इसके लिए भी नेहरू को जिम्मेदार बता सकती है मोदी सरकार


आकाश राय 

नई दिल्ली, 21 मई (हि.स.)। भारत और नेपाल के संबंधों में आई खटास को लेकर कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि ये मोदी सरकार दोनों देशों के बीच के मतभेद के लिए भी पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को जिम्मेदार ठहरा सकती है।


अभिषेक मनु सिंघवी ने नये राजनीतिक नक्शे को लेकर भारत और नेपाल के बिगड़े रिश्तों को लेकर लिखा कि क्या ऐसा कोई रास्ता है कि नेपाल के साथ मौजूदा रिश्तों को लेकर नेहरू पर आरोप लगाया जा सकेउन्होंने केंद्र की मोदी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि लगातार हो रहे प्रचारों से तो लगता है कि सभी अच्छे काम 2014 के बाद ही हुए हैं, ऐसे में दो देशों के बीच की खटास के लिए कांग्रेस नेताओं को फिर से गलत साबित करने का मौका तो भाजपा छोड़ना नहीं चाहेगी। भाजपा को यह कहने में भी शर्म नहीं आएगी कि भारत की वर्तमान विफलताओं को दोष देने के लिए सारी गलतियां 1950 से 67 में हुई या 1980-84, 1991 में या 2004 से 2014 के बीच हुईं।


उल्लेखनीय है कि बीते कुछ दिनों से बॉर्डर के कुछ इलाकों को लेकर नेपाल-भारत में राजनीतिक नक्शे को लेकर खींचतान है। इसकी शुरुआत बीते आठ मई को हुई थी जब भारत ने उत्तराखंड के लिपुलेख से कैलाश मानसरोवर के लिए सड़क का उद्घाटन किया था। तब नेपाल ने इस पर आपत्ति जताई थी। इसके बाद नेपाल ने कालापानीलिपुलेख और लिम्पियाधुरा को अपने राजनीतिक नक्शे में जगह देते हुए उसे प्रकाशित किया। जिस पर भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि 'हम नेपाल सरकार से अपील करते हैं कि वो ऐसे बनावटी कार्टोग्राफिक प्रकाशित करने से बचे। साथ ही भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करे।'

 

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top