क्षेत्रीय

Blog single photo

हमीरपुर में गैंगरेप के बाद छात्रा की हत्या का खुलासा, एक गिरफ्तार

09/06/2019

- शराब पीकर दो युवकों ने घटना को दिया था अंजाम
- डीआईजी ने घटना का पर्दाफाश करने वाली टीम को दिया 25 हजार का इनाम

हमीरपुर, 09 जून (हि.स.)। अलीगढ़ की घटना के बाद हमीरपुर में मासूम छात्रा से गैंगरेप कर हत्या करने का मामला तूल पकड़ने के बाद दबाव में आये पुलिस प्रशासन ने 30 घंटे बाद रविवार को एक आरोपित को गिरफ्तार करके घटना का खुलासा कर दिया है। डीआईजी ने बताया कि पकड़े गए आरोपित को खोजी कुत्ते ने ढूंढ निकाला जबकि दूसरा फरार हो गया है। उसकी गिरफ्तारी के लिये पुलिस की टीमें लगातार कार्यवाही कर रही है। 

हमीरपुर स्थित पुलिस लाइन के सम्मेलन कक्ष में रविवार को शाम मीडिया से बातचीत करते हुये डीआईजी बांदा अनिल कुमार राय ने बताया कि कुरारा थाना क्षेत्र के शिवनी गांव में 10 साल की बच्ची के साथ रेप कर गला दबाकर हत्या किये जाने की घटना से जनपद में भय का माहौल पैदा हो गया था। इस घटना की सूचना यूपी-100 के माध्यम से पुलिस को मिली थी। घटना की संवेदनशीलता को देखते हुये पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा ने अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह, सीओ मौदहा, सीओ सरीला, फोरेंसिक टीम, स्वाट टीम, व ललपुरा, जलालपुर, सुमेरपुर तथा सदर कोतवाली आदि के प्रभारी निरीक्षकों को तत्काल घटनास्थल रवाना किया और पुलिस अधीक्षक स्वयं भी मौके पर पहुंचे थे। 

घटनास्थल से बांदा की फोरेंसिक टीम के माध्यम से घटना के सभी साक्ष्यों को एकत्र कराया गया। कानपुर से डाग स्क्वाड (खोजी कुत्ते) को भी मौके पर बुलवाया गया। डीआईजी ने बताया कि घटना का पर्दाफाश करने के लिये प्रभारी सीओ मौदहा के नेतृत्व में पांच टीमें गठित की गयी थी जिसमें कुरारा, ललपुरा, कोतवाली, राठ के प्रभारी निरीक्षकों के अलावा स्वाट प्रभारी को भी लगाया गया। उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर मौजूद आक्रोशित लोगों को समझाना, मृतका के शव का पोस्टमार्टम कराना व अंतिम संस्कार कराने के साथ ही क्षेत्र में सुरक्षा के माहौल को बनाये रखना पुलिस के सामने कई गंभीर चुनौतियां थी। 

डीआईजी ने बताया कि मृतका के पिता ने इस घटना में गांव के ही बीरू परिहार (26) व पप्पू राजपूत (40) पर शक जाहिर किया था। ग्रामीणों ने भी इन दोनों पर घटना में शामिल होने की आशंका जताई थी। डीआईजी ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपितों ने गांव नहीं छोड़ा। ये दोनों अपने ही घरों पर रहे। आरोपित बीरू ट्रक चालक है और पप्पू राजपूत कुछ नहीं करता है। पप्पू मृतका छात्रा के घर के सामने रहता है और बीरू पप्पू के घर के पीछे रहता है। उन्होंने बताया कि घटना के बाद खोजी कुत्ते घटनास्थल पर छोड़े गये तो इसके डर से बीरू परिहार गांव से फरार हो गया। बीरू के भाई से पूछताछ करने पर पप्पू राजपूत का कृत्य सामने आ गया। 

उन्होंने बताया कि जब पप्पू राजपूत को गिरफ्तार कर पूछताछ की गयी तो उसने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया। उसने बताया कि पहले दिन में घटना को अंजाम देने के लिये प्लान बनाया गया था लेकिन फिर रात में शराब पीने के बाद घर के बाहर सो रही मासूम छात्रा को उठाकर कब्रिस्तान की झाड़ी में ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया गया। डीआईजी ने बताया कि दोनों आरोपितों को मृतका पहचान गई थी, इसीलिये डर के कारण उसे मार डाला गया। 

डीआईजी ने बताया कि इस घटना में फरार बीरू परिहार की गिरफ्तारी के लिये टीमें लगातार छापेमारी कर रही है, वह भी जल्द ही गिरफ्तार होगा। घटना का पर्दाफाश करने वाली पुलिस टीम को 25 हजार रुपये का इनाम दिया जा रहा है। डीआईजी ने बताया कि जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश शासन स्तर से रानी लक्ष्मीबाई सम्मान योजना के तहत 10 लाख रुपये व एससीएसटी एक्ट के तहत मिलने वाली धनराशि भी पीड़ित परिवार को उपलब्ध कराने की कार्यवाही कर रहे हैं। 

आरोपितों के खिलाफ रासुका के तहत होगी कार्यवाही
डीआईजी एके राय ने बताया कि ऐसी घटना से लोक व्यवस्था भंग होती है, इसलिये आरोपितों के खिलाफ कानून की परिधि में ऐसी कार्यवाही की जायेगी जिससे मुल्जिमों के लिये नजीर बन सके। उन्होंने बताया कि मासूम छात्रा से गैंगरेप कर उसकी हत्या करने वाले आरोपितों के खिलाफ रासुका के तहत कार्यवाही की जायेगी। साथ ही इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट (एफटीसी) में चलाया जायेगा ताकि आरोपितों को जल्द से जल्द दंड मिल सके। 

हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/सुनीत 


 
Top