व्यापार

Blog single photo

स्टॉक एक्सचेंजों ने वित्तीय सेवाओं के प्रमुख कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग का लाइसेंस किया निलंबित

02/12/2019

गोविन्द चौधरी

नई दिल्ली/मुम्बई, 02 दिसम्बर (हि.स.)। स्टॉक एक्सचेंजों ने सोमवार को हैदराबाद स्थित वित्तीय सेवाओं के प्रमुख कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग का लाइसेंस सोमवार को निलंबित कर दिया। कार्वी अब कैपिटल मार्केट, फ्यूचर एंड ऑप्शंस, करंसी डेरिवेटिव्स, डेट, म्यूचुअल फंड सर्विस सिस्टम और कमोडिटी डेरिवेटिव में ट्रेडिंग नहीं कर पाएगी। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने भी इक्विटी और डेट सेगमेंट में कार्वी के ट्रेडिंग टर्मिनल निष्क्रिय कर दिए। इक्विटी डेरिवेटिव्स, करंसी डेरिवेटिव्स और कमोडिटी सेगमेंट को रिस्क रिडक्शन मोड (आरआरएम) में डाल दिया।

सर्कुलर में कहा गया है कि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने एक्सचेंज के विनियामक प्रावधानों का पालन नहीं करने के कारण कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड (केएसबीएल) को निलंबित किया है। एनएसई की कार्रवाई के बाद बीएसई ने भी इक्विटी और डेट सेगमेंट में कार्वी के ट्रेडिंग टर्मिनलों को निष्क्रिय कर दिया और उन्हें इक्विटी डेरिवेटिव्स, करेंसी डेरिवेटिव्स और कमोडिटी में आरआरएम मोड में डाल दिया।

उल्लेखनीय है कि कार्वी का निलंबन हजारों ग्राहकों को प्रभावित कर सकता है। ग्राहक के धन के दुरुपयोग के लिए यह कदम कार्वी के खिलाफ बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के द्वारा किया गया है। कार्वी के 12 लाख ग्राहक हैं, जिनमें से तीन लाख सक्रिय हैं। औसतन, 20,000 से 25,000 ग्राहक दैनिक आधार पर लेनदेन करते हैं। एनएसई की एक हालिया अंतरिम रिपोर्ट में कहा गया है कि 95,000 से अधिक ग्राहकों के 2,300 करोड़ रुपये की प्रतिभूतियां अनाधिकृत रूप से केएसबीएल द्वारा हस्तांतरित की गईं।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top