क्षेत्रीय

Blog single photo

हमीरपुरः आयरन की गोलियां खाने के बाद छात्र की मौत, कई बच्चे बीमार

07/11/2019

- स्वास्थ्य विभाग ने स्कूलों में बच्चों को बांटी थी आयरन की गोलियां
- स्कूल में ही गोलियां खाते ही उल्टी करने लगे थे 8 बच्चे, कई बच्चे रेफर 
- बीएसए, एसडीएम ने शुरू की जांच, सीएमओ ने भी बैठाई जांच 

पंकज मिश्रा
हमीरपुर, 07 नवम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में एक विद्यालय में आयरन की गोलियां खाने से आधा दर्जन से अधिक बच्चों की हालत बिगड़ गयी। आनन-फानन बच्चों को अस्पताल भेजा गया जहां एक बच्चे की मौत हो गयी कई बच्चे गंभीर हालत में कानपुर भेजे गये हैं। इस घटना से गांव में आक्रोश गहरा गया हैं। घटना की सूचना पाते ही गुरुवार को एसडीएम, सीओ मौके पर पहुंचे और मामले की जांच शुरू कर दी हैं। बीएसए ने भी गांव स्कूल पहुंचकर पूरे प्रकरण की जांच शुरू कर दी है। 

जिले के कुरारा क्षेत्र के ददरी गांव निवासी अमर सिंह का पुत्र कुलदीप (13) गांव के ही पूर्व माध्यमिक विद्यालय में कक्षा सातवीं क्लास में पढ़ता था। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम स्कूल पहुंची थी जहां टीम ने सभी बच्चों को आयरन की गोलियां खाने को दी। स्कूल में ही कुलदीप ने आयरन की गोलियां जैसे ही खायी तो वह उल्टी करने लगा। उसे देखकर क्लास में संदीप (12) पुत्र हरिश्चन्द्र, परेश (13) पुत्र रामपाल, ममता (12) पुत्री सूबेदार, आराधना (14) पुत्री अवधेश, शिल्पी (13) पुत्री प्रहलाद, काजल (13) पुत्री जयप्रकाश, खुशबू (14) पुत्री भूप सिंह व काजल (14) पुत्री राकेश सहित अन्य बच्चे भी उल्टी करने लगे। बच्चों की हालत बिगडऩे पर शिक्षकों में हड़कंप मच गया। मामले की जानकारी परिजनों को दी गयी जिस परिजन तुरंत स्कूल पहुंचे और अपने-अपने बच्चों को साथ लेकर सरकारी अस्पताल को भागे। 

कुरारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कुलदीप की हालत नाजुक होने पर डाक्टरों ने उसे बुधवार को सदर अस्पताल के लिये रेफर कर दिया था लेकिन यहां से भी डाक्टरों ने कुलदीप को कानपुर रेफर कर दिया था। कानपुर ले जाते समय इस छात्र की मौत हो गयी। परेश को कानपुर के घाटमपुर में अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं जहां उसका इलाज अभी जारी हैं। गुरुवार को बच्चे की मौत से पूरे गांव में आक्रोश गहरा गया। घटना की सूचना पाते ही एसडीएम राजेश कुमार चौरसिया, सीओ सदर अनुराग सिंह व कुरारा थानाध्यक्ष एके सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। मामले की जानकारी होते ही बीएसए सतीश कुमार भी ए.बीएसए के साथ गांव पहुंचकर प्रकरण की जांच शुरू कर दी हैं। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेजा हैं। एसडीएम, सीओ और बीएसए ने विद्यालय पहुंचकर मामले की जांच की। 

विद्यालय के प्रधानाध्यापक खलील खान ने अधिकारियों को बताया कि स्कूल में एक-एक आयरन की गोलियां बच्चों को खिलायी गयी थी और एक-एक पत्ता (टेबलेट) घर ले जाने को दिया गया था। घर में कुलदीप नाम के बच्चे ने पूरी दवायें खा ली जिससे उसकी हालत नाजुक हो गयी। बीएसए सतीश कुमार ने बताया कि बच्चों ने आयरन की गोली खाने के बाद पेट दर्द और उल्टी करने की शिकायत की थी। जिस पर इलाज के लिये अस्पताल भेजा गया था। उन्होंने बताया कि इस पूरे मामले की जांच करायी जा रही हैं। आयरन की गोलियां भी अधिकारियों ने जांच के लिये कब्जे में ले ली हैं। 

आयरन की गोलियां खाने से नहीं हो सकती मौतः सीएमओ
हमीरपुर के सीएमओ डा. एमके बल्लभ ने बताया कि आयरन की गोलियां खाने से एक बच्चे की मौत होने की सूचना गुरुवार को मिली हैं जिसे गंभीरता से लेकर पूरे मामले की जांच के लिये बालरोग विशेषज्ञ डॉ. आशुतोष कुमार के नेतृत्व में एक टीम भेजी गयी हैं। टीम ने गांव पहुंचकर प्रकरण की जांच शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि आयरन की गोलियां खाने से किसी की भी मौत नहीं हो सकती है। यदि आयरन की गोलियां एक्सपायरी डेट की भी कोई खा ले तो इससे जान को खतरा नहीं रहता है। सिर्फ गोली की पोटेंशियल कम हो जाती है। सीएमओ ने एक सवाल के जवाब में बताया कि यदि बच्चा एक से अधिक भी गोलियां खा भी ले तो उसकी कोई जान को कोई खतरा नहीं है। ददरी गांव में कुलदीप नाम के बच्चे की मौत की कोई और वजह हो सकती है जिसकी जांच करायी जा रही है। उन्होंने बताया कि स्कूल में आयरन की गोलियां सबसे पहले शिक्षक को खानी चाहिये लेकिन ददरी गांव के स्कूल में एक ऐसे बच्चे को गोली खिला दी गयी जो उल्टी करने लगा। उसे देख क्लास में मौजूद अन्य बच्चे भी उल्टी करने लगे।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top