राम जन्मभूमि

Blog single photo

राममन्दिर भूमिपूजन: स्मरणीय संग्रह होगा प्रधानमंत्री मोदी का जारी किया डाक टिकट

05/08/2020

-ऑनलाइन भी खरीद सकेंगे देश विदेश के रामभक्त

अयोध्या, 05 अगस्त (हि.स.)। राममन्दिर भूमिपूजन के लिए आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यहां 'श्री राम जन्मभूमि मंदिर' पर एक स्मारक डाक टिकट भी जारी किया।

श्री राम जन्मभूमि सनातन संस्कृति का प्रतीक स्थल है। इक्ष्वाकु वंश में जन्म में भगवान श्री राम प्राचीन कला से लेकर आज तक समाज मानव एवं व्यक्तिक मूल्यों के आदर्श हैं। अथर्ववेद में अयोध्या अष्टचक्र और नवद्वार के रूप में वर्णित हैं। 

लगभग 5000 वर्षों से निरंतर विश्व की संस्कृति कला एवं जीवन से संबंधित संबंधित सभी मूर्त एवं अमूर्त भेदभाव विधाओं में राम संस्कृति विद्यमान है। मध्य अमेरिका के होण्डुरास यानी पाताल लोक के घने जंगलों से लेकर पांचवीं शताब्दी ईसा पूर्व तक इटली की एट्रक्शन सभ्यता 2000 ईसा पूर्व में बेलुला ईराक के कुरुक्षेत्र में तथा दक्षिण पूर्व एशिया में खमीर संस्कृति में सातवीं शताब्दी के बाल्मिकी मंदिर में रामायण संस्कृति के साक्ष्य प्रामाणिक रूप से प्राप्त होते हैं। इसके साथ ही भारत की सभी भाषाओं एवं बोलियों की रामायण रामलीला मुखौटों तथा संस्कारों आदि में नई पीढ़ी को प्रेरणा प्रदान करती हुई सांस्कृतिक संदर्भ में भी प्रासंगिक है।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा प्रधानमंत्री के कर कमलों से भूमि पूजन के कार्यक्रम अवसर पर अयोध्या शोध संस्थान, संस्कृत विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा श्री राम जन्मभूमि मंदिर प्रतिरूप पर आधारित 'डाक टिकट' का प्रकाशन कराया गया। यह डाक टिकट स्मरणीय संग्रह होगा, जिसे देश और विदेश के लोगों द्वारा संग्रहीत किया जाएगा तथा इसका बेहद महत्व भी होगा। इस डाक टिकट में थ्रीडी मॉडल का चित्र दिया गया है इसी के साथ राम की विश्व यात्रा से संबंधित रामायण विश्व महाकोष का विशेष कवर भी इस डाक टिकट के लिए बनाया गया है। यह डाक टिकट भविष्य में अयोध्या शोध संस्थान तुलसी स्मारक भवन, पोस्ट ऑफिस फैजाबाद, यूनिवर्सल बुक डिपो लखनऊ, वाणी प्रकाशन नई दिल्ली से ऑनलाइन या नकद धनराशि देकर प्राप्त किया जा सकेगा।

हिन्दुस्थान समाचार/संजय


 
Top