सुप्रभा सक्सेना

जकार्ता, 05 अप्रैल (हि.स.)। इंडोनेशिया के पूर्वी इलाके में मूसलाधार बारिश के कारण हुए भूस्खलन और अचानक आई बाढ़ में अब तक कम से कम 87 लोगों के मौत की खबर है, जबकि कई लोग लापता हैं। हजारों लोग बेघर हो गए हैं। जगह-जगह पर मिट्टी के ढेर लगने के कारण राहत एवं बचाव दल को राहत कार्य में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

इंडोनेशिया की आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता रादित्य जति ने सोमवार को बताया कि बिजली चले जाने और सड़कों पर मलबा जमा होने के कारण राहत एवं बचाव टीम को राहत कार्य में परेशानी हो रही है। 

पूर्वी फ्लोरेस आपदा एजेंसी के प्रमुख एल्फोंड हदा बेथन ने बताया कि उन्हें आशंका है कि कई लोग मलबे में दबे हो सकते हैं, लेकिन यह संख्या कितनी है, अभी स्पष्ट नहीं हुआ है।

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने तबाही पर गहरी संवेदना व्यक्त की है। साथ ही उन्होंने लोगों से आग्रह किया है कि वह मौसम विभाग के दिशा-निर्देशों का पालन करें।

उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी में जावा के सुमेदांग नगर में बाढ़ आने से 40 लोगों की मौत हो गई थी।

हिन्दुस्थान समाचार

You Can Share It :