क्षेत्रीय

Blog single photo

कानपुर जोन में तैनात 29 पुलिसकर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति

11/07/2019

मोहित वर्मा
कानपुर, 11 जुलाई (हि.स.)। कानपुर जोन में तैनात 29 पुलिस कर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति का पत्र भेजा गया है। पुलिस महानिदेशक जोन का पत्र मिलने से पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया है। अनिवार्य सेवानिवृत्ति के दायरे में आये पुलिस कर्मियों पर आम जनता से दुर्व्यवहार करने व सरकारी कार्य में लापरवाही बरतने का आरोप है। 
कानपुर जोन की कमान संभालते ही पुलिस महानिदेशक मोहित अग्रवाल ने कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने, अपराधियों की धरपकड़ के साथ ही विभागीय कर्मियों को नकेल कसना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में सबसे पहले आईजी ने महकमे के कर्मियों पर नकेल कसते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है। 
आईजी ने जोन के गुरुवार को छह जनपदों से कुल 29 पुलिस कर्मियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति करने का  लिखित आदेश जारी किया है। अनिवार्य सेवानिवृत्ति में उप निरीक्षक (एसआई) व आरक्षी (सिपाही) शामिल हैं। इन पुलिस कर्मियों पर आरोप है कि इन्होंने आम जनता से दुर्व्यवहार किया, सरकारी कार्य में लापरवाही बरती, अपराधियों से सांठगांठ, गैर हाजिर रहने व 50 वर्ष की आयु पूरा होना बताया गया है।
इनमें कानपुर नगर जनपद से एक मुख्य आरक्षी उदय प्रताप व छह आरक्षी सहित सात कर्मी शामिल हैं। कानपुर देहात जनपद में सात आरक्षी (सिपाही) हैं। औरैया जनपद से एसआई राजेश चन्द्र पांडेय, एक एएसआई व दो मुख्य आरक्षी सहित चार कर्मी, इटावा जिले से एसआई गुलाब सिंह, एक मुख्य आरक्षी व दो आरक्षी सहित चार कर्मी, फतेहगढ़ जनपद से तीन आरक्षी व कन्नौज जिले में तैनात एसआई बालादीन सहित दो मुख्य आरक्षी व एक आरक्षी सहित चार पुलिस कर्मी शामिल हैं।  आईजी जोन का पत्र जनपदों के कप्तानों को मिलते ही पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया है। 
गौरतलब है कि अनिवार्य सेवानिवृत्ति के लिए शासन के आदेश पर आईजी मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में कमेटी गठित की गई थी। कमेटी ने जोन के 29 पुलिस कर्मियों को उनको विभागीय कार्यों व जनपदों से मिली रिपोर्ट के आधार पर शामिल किया है।

हिन्दुस्थान समाचार 


 
Top