क्षेत्रीय

Blog single photo

दिखावे के चकाचौंध से दूर समाज सेवा की अलख जगाने में लगे केके शर्मा

14/01/2020

- निशुल्क स्वास्थ्य सेवा, रोजगार परख शिक्षा व बेटियों को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण

फरमान अली 
गाजियाबाद, 14 जनवरी (हि.स.)। कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों.. यह लोकोक्ति गाजियाबाद के एक अजनबी समाजसेवी पर चरितार्थ होती है जो पिछले तीस सालों से प्रचार-प्रसार की चकाचौंध से दूर समाज सेवा में जुटे हैं। एक निजी कंपनी के बडे़ पद से रिटायर हुए केके शर्मा के प्रयासों से सैकड़ों लोगों की जान बची, हजारों लोग रोजगार स्वावीलंबी बने और अभी भी कई स्कूलों में लड़कियों को आत्मरक्षा के लिए मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

देश के जाने-माने उद्योग समूह श्रीराम ग्रुप के उपाध्यक्ष पद से सेवानिवृत होने के बाद केके शर्मा को समाजसेवा का ऐसा जुनून चढ़ा कि उन्होंने समाज सेवा के क्षेत्र में पीछे मुड़कर नहीं देखा। शहर में इस समय उनकी देखरेख में पांच डिस्पेंसरियों में ओपीडी सेवा संचालित हो रही है जहां प्रतिदिन सैकड़ों गरीब-बेसहारा लोग अपना इलाज करा रहे हैं। इनमें दो डिस्पेंसरियां मोबाइल हैं जो उन इलाकों में जाती हैं जहां स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव है। इनमें से तीन डिस्पेंसरियां संजयनगर सेक्टर 23, नंदग्राम व शाहपुर में स्थायी रूप से चल रही हैं। शर्मा ने बताया कि बचपन से ही समाज सेवा में रूझान के कारण उन्होंने एमबीए, एलएलबी के अलावा समाज सेवा विषय में मास्टर डिग्री हासिल की थी। 

बकौल शर्मा आर्थिक तंगी के कारण ज्यादा पढ़ाई न कर पाने वाली बेटियों के लिए मेरठ रोड पर पाॅलीटेक्निक सेंटर पिछले कई सालों से चल रहा है जहां हर वर्ष 120 बेटियां प्रशिक्षित होकर अपना भरण पोषण कर रही हैं। यही नहीं शहर के कई सरकारी स्कूलों में लड़कियों को आत्म रक्षा के लिए उनकी टीम मार्शल आर्ट की ट्रेनिंग भी दे रही है। इन्हीं बेटियों में से कई ने पिछले दिनों स्टेट और नेशनल स्तर पर संपन्न हुई प्रतियोगिता में मेडल जीतकर गाजियाबाद का भी गौरव बढ़ाया है।

मूल रूप से हाथरस के निवासी श्री शर्मा कई दशक पहले गाजियाबाद में आकर बस गए थे। यहीं से वह अपने मिशन को चला रहे हैं। पीड़ित लोगों को केके शर्मा  निशुल्क कानूनी सहायता भी देते हैं। इसके अलावा शहर के सरकारी स्कूलों में लड़कियों के लिए उन्होंने अपने खर्चों से टाॅयलेट का निर्माण कराया है। उनका अगला मिशन शहर के बिगड़े हुए पर्यावरण को दुरूस्त करना है, जिस पर काम शुरू हो चुका है।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top