क्षेत्रीय

Blog single photo

हमीरपुर में मासूम छात्रा से दरिंदगी के बाद पूरा गांव बना छावनी

09/06/2019

-घटना के 30 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली, कई संदिग्ध लोगों से पूछताछ जारी

हमीरपुर, 09 जून (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में पांचवीं कक्षा की मासूम छात्रा के  साथ गैंगरेप कर हत्या करने की घटना के तीस घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। हालांकि पुलिस आधा दर्जन से अधिक संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। घटना का पर्दाफाश न होने पर गांव में आक्रोश व्याप्त है। रविवार को पूरे गांव में एक ट्रक पीएसी व पुलिस बल की तैनाती कर दी गयी है। पुलिस अधीक्षक समेत अन्य अधिकारी रात भर क्षेत्र में कैम्प करते रहे। उनकी मौजूदगी में पुलिस की टीमें छापेमारी भी करती रही मगर अभी पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने बताया है कि पीड़ित पक्ष को आर्थिक सहायता के रूप में लक्ष्मीबाई सम्मान योजना के अंतर्गत 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।
मृतका छात्रा का पिता घाटमपुर क्षेत्र में परिवार सहित मजदूरी करता था। कुरारा थाना क्षेत्र के शिवनी गांव में घटना वाली रात वह घर के बाहर अपने चचेरे भाई के साथ चारपाई पर सो रही थी। शुक्रवार की देर रात अज्ञात लोग उसे चारपाई से उठाकर कब्रिस्तान के पास झाड़ियों में ले गये। वहां सामूहिक दुष्कर्म करने के बाद गला दबाकर हत्या करके शव वहीं फेंक दिया। शनिवार को सुबह छात्रा के चारपाई पर न मिलने पर परिजन उसे ढूंढते रहे लेकिन वह कहीं नहीं मिली। गांव के कुछ लोग जब कब्रिस्तान के पास शौच करने गये तो मासूम छात्रा का निर्वस्त्र शव देखा। घटना की जानकारी होते ही गांव के सैकड़ों लोग मौके पर एकत्र हो गये और हंगामा काटने लगे। 
सूचना पाते ही कुरारा थाने के इंस्पेक्टर केके पाण्डेय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे लेकिन घटना से आक्रोशित परिजनों और ग्रामीणों ने हंगामा करते हुये चार घंटे तक शव उठने नहीं दिया। पुलिस अधीक्षक हेमराज मीणा के आश्वासन पर शव का पंचनामा भरकर हमीरपुर में डाक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया गया। पुलिस की टीमें लगातार छापेमारी कर रही हैं। घटना का पर्दाफाश करने के लिये खोजी कुत्ते और सर्विलांस की टीम भी लगी है मगर पुलिस के हाथ अभी भी खाली हैं। 
अलीगढ़ के बाद हमीरपुर में मासूम छात्रा के साथ दरिन्दगी होने से यहां सामाजिक संगठनों में भी उबाल है। घटना के बाद इलाहाबाद जोन के एडीजी एसएन सांवत, डीआईजी बांदा एके राय व जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश समेत अन्य अधिकारियों ने घटनास्थल पहुंचकर पीड़ित परिवार से जानकारी की। पूर्व केन्द्रीय मंत्री प्रदीप जैन व पूर्व विधायक गयादीन अनुरागी ने भी घटनास्थल का निरीक्षण कर इस घटना को बुन्देलखण्ड का कलंक बताया 
कुरारा थाने के इंस्पेक्टर केके पाण्डेय ने रविवार को बताया कि पूरी रात इस घटना को लेकर पुलिस की टीमें संदिग्ध लोगों के यहां छापेमारी करती रही। कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस घटना का जल्द ही खुलासा हो जायेगा।
हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/सुनीत 


 
Top