राष्ट्रीय

Blog single photo

जलकुंभी से तैयार की गई योगा के लिए खास चटाई

19/06/2019

असरार

गुवाहाटी, 19 जून (हि.स.)। नार्थ ईस्ट डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (नेडफी) के प्रयास से राजधानी के बाहरी इलाके खेत्री में जलकुंभी से योगा दिवस के लिए चटाई तैयार की गई है। खास बात यह है कि ये चटाइयां पर्यावरण के अनूकूल हैं। इसके साथ खर-पतवार से भी कई सजावटी सामान तैयार किए जा रहे हैं।

नेडफी के उप प्रबंधक असीम कुमार दास ने बुधवार को बताया है कि 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस के मद्देनजर पर्यावरण के अनुकूल जलकुंभी से 3500 से अधिक योगा चटाई का निर्माण किया गया है। नेडफी के खेत्री स्थित निर्माण केंद्र में 150 से अधिक बुनकरों ने इन चटाइयों का निर्माण किया है। इसमें 2500 चटाई का निर्माण खेत्री स्थित निर्माण केंद्र में हुआ है, जबकि 1000 चटाई का निर्माण नगांव, कोकराझार, माजुली और लखीमपुर धेमाजी आदि जगहों के असम स्टेट रूरल लाइवलीहुड मिशन सोसायटी (एएसआरएलएमसी) में तैयार कराकर मंगाया गया है। उन्होंने बताया कि योगा दिवस के लिए इन चटाइयों को गुवाहाटी समेत राज्य के कुल 219 ब्लॉकों में भेजा गया है। 

असीम कुमार दास ने बताया कि वर्ष 2012 में थाईलैंड से जलकुंभी से चटाई समेत अन्य सामग्री बनाने की पद्धति लाई गई थी। उन्होंने बताया कि पंचायत एंड रूरल डेवलपमेंट डिपार्टमेंट गवर्नमेंट ऑफ़ असम के अधीन असम स्टेट रूरल लाइवलीहुड मिशन सोसायटी की मांग पर नेडफी ने चटाइयों का निर्माण कराया है। सभी चटाई की पैकेजिंग खेत्री स्थित निर्माण केंद्र में हुई है।

नेडफी के उप प्रबंधक ने बताया कि यह कार्य एएसआरएलएम की स्टेट मिशन डायरेक्टर नंदिता हाजारिका के निर्देशन में हो रहा है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों, खासकर महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने की प्रेरणा मिल रही है। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में इस कार्य को राज्य के और अधिक क्षेत्रों में फैलाया जाएगा, ताकि ग्रामीण क्षेत्रों मुख्य रूप से महिलाओं की आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाई जा सके।

हिन्दुस्थान समाचार


 
Top