अपराध

Blog single photo

25 हजार का इनामी व डी-116 गैंग का सदस्य मुठभेड़ में गिरफ्तार.

09/06/2019

मोहित
अलग-अलग थानाक्षेत्रों में हुई मुठभेड़ में पुलिस को मिली कामयाबी 

कानपुर, 09 जून (हि.स.)। जनपद में पुलिस व बदमाशों के बीच मुठभेड़ का सिलसिला है। शनिवार की अर्धरात्रि को अलग-अलग थानाक्षेत्रों में पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ में दो बदमाश पुलिस की गोली से घायल हो गये और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार अभियुक्तों में कल्याणपुर थाना पुलिस ने हत्या की घटना में फरार 25 हजार का इनामी को पकड़ने  तो बादशाहीनाका पुलिस ने डी-116 गैंग के शातिर अपराधी को दबोचने में कामयाबी हासिल की है। 
पुलिस अधीक्षक पश्चिम संजीव सुमन ने रविवार को बताया कि कल्याणपुर इंस्पेक्टर अश्विनी पांडेय शनिवार की अर्धरात्रि पुलिस टीम के साथ दलहन क्रासिंग के पास गश्त कर रहे थे। अपराध नियंत्रण की निगरानी करते हुए वहां सर्विलांस टीम प्रभारी भी पहुंचे। इसी दौरान मोटरसाइकिल पर सवार एक संदिग्ध युवक गुरुदेव चौराहे की ओर से आता दिखाई दिया। जिसे पुलिस कर्मियों ने शक के आधार पर रुकने के लिए आवाज लगाई तो वह भागने लगा। इस पर पुलिस टीम ने उसका पीछा किया तो उसने दलहन क्रासिंग के पीछे खुद को घिरता देख फायरिंग शुरु कर दी। जवाबी कारवाई में पुलिस की गोली युवक के पैर में जा लगी और वह घायल होकर गिर गया। 
पुलिस अधीक्षक पश्चिम ने बताया कि पकड़ा गया अभियुक्त शातिर शेखर ठाकुर उर्फ शेखर सिंह उर्फ चन्द्रशेखर पुत्र धर्मेन्द्र सिंह निवासी बम्हरौली घाट थाना देवराहट जिला कानपुर देहात निकला। गिरफ्तार अभियुक्त पर जनपद के घाटमपुर थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज है, जिसमें वह फरार चल रहा था। इसके साथ ही अभियुक्त पर कानपुर के विभिन्न थानों के साथ ही कानपुर देहात व जालौन जिले में भी हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, जालसाजी आदि के लगभग एक दर्जन मुकदमे पंजीकृत हैं। गिरफ्तार अभियुक्त पर 25 हजार का इनाम है और उसके कब्जे से एक तमंचा 315 बोर, तीन जिन्दा कारतूस, मोटरसाइकिल आदि बरामद हुई है। पुलिस अभिरक्षा में हैलट अस्पताल अभियुक्त को भर्ती कराते हुए आगे की कार्रवाई की जा रही है। 

डी-116 गैंग का शातिर सदस्य मुठभेड़ में गिरफ्तार
पुलिस अधीक्षक पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने रविवार को बताया कि बादशाहीनाका पुलिस कोपरगंज चौराहे पर देर रात चेकिंग कर रही थी। तभी सूचना मिली कि सुरसादेवी मंदिर मोड़ के पास एक संदिग्ध की सूचना मिली। जिस पर बादशाहीनाका थाना प्रभारी पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। जहां पुलिस कर्मियों को अचानक देख एक संदिग्ध युवक भागने लगा। इंस्पेक्टर ने कन्ट्रोल रूम को सूचना देते हुए युवक का पीछा किया। सूचना मिलते ही जेब्रा मोबाइल-14 के पुलिस कर्मी भी आ गये। जिन्हें देखकर युवक ने तमंचे से फायर करना शुरु कर दिया। जवाबी कारवाई में बादमाश के दाहिने पैर में गोली जा लगी और वह घायल होकर गिर गया। घायल बदमाश को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ की। 

एसपी पूर्वी ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त आमिर उर्फ मलाई पुत्र रफीक निवासी कुली बाजार है। अभियुक्त बादशाहीनाका के डी-116 गैंग का सक्रिय सदस्य है और उस पर जनपद के विभिन्न थानों में हत्या का प्रयास, चोरी, गैंगस्टर, शस्त्र अधिनियम व एनडीपीएस एक्ट के लगभग चौबीस मुकदमे दर्ज हैं। उसके कब्जे से एक तमंचा 315 बोर, दो जिन्दा कारतूस, आदि बरामद हुआ है। घायल बदमाश को पुलिस अभिरक्षा में केपीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हिन्दुस्था समाचार


 
Top