Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, जून 22, 2018 | समय 22:13 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पेशावर में सिखों का बुरा हाल, पलायन को मजबूर

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 13 2018 4:04PM
पेशावर में सिखों का बुरा हाल, पलायन को मजबूर
पेशावर, 13 जून (हि.स.)। सरकारी उदासीनता और तालिबान के खौफ से यहां के अल्पसंख्यक सिख समुदाय पलायन को मजबूर है। पेशावर में रहने वाले करीब 30,000 सिख समुदाय के 60 फीसदी से ज़्यादा लोग पेशावर छोड़कर अन्यत्र जा चुके हैं। यह जानकारी बुधवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। समाचार चैनल टीआरटी वर्ल्ड न्यूज़ के मुताबिक, पिछले दिनों किसी ने 'पीस ऐक्टिविस्ट' चरनजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी। इस घटना के बाद से पूरे सिख समुदाय के लोग दहशत में हैं। सिख समुदाय के प्रवक्ता ने कहा, \"मै समझता हूं कि सिक्खों का नरसंहार किया जा रहा है।\" पाकिस्तान सिख काउंसिल के एक सदस्य ने अपनी पगड़ी की तरफ इशारा करते हुए कहा \"हमलोगों का सफाया इसलिए किया जा रहा है कि हम लोग अलग दिखते हैं।\" कुछ लोगों का मानना है कि तालिबान के लोग ऐसा कर रहे हैं। साल 2016 में 'पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ' (पीटीआई) के सिख नेता की हत्या कर दी गई। तालिबान ने इसकी ज़िम्मेदारी ली थी। बावजूद इसके पुलिस ने उनके राजनीतिक विरोधी एक हिंदू नेता बलदेव सिंह को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि सबूतों के अभाव में दो साल तक चले ट्रायल के बाद उन्हें छोड़ना पड़ा। सिखों के लिए श्मशान घाट की भी ठीक से व्यवस्था नहीं है। खैबर पख्तूनख्वा सरकार ने इसके लिए धन का आवंटन किया था, लेकिन अभी तक इस पर काम शुरू नहीं हुआ है। इसके अलावा जिस भूमि का आवंटन श्मशान घाट के लिए किया गया था उस पर एक निजी बैंक, वेडिंग हॉल और एक कंपनी बनाने की अनुमति भी दे दी गई है। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण
image