Hindusthan Samachar
Banner 2 रविवार, नवम्बर 18, 2018 | समय 13:57 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

फीफा विश्वकप: पहले सेमीफाइनल में फ्रांस और बेल्जियम के बीच कड़े मुकाबले की उम्मीद

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jul 10 2018 2:38PM
फीफा विश्वकप: पहले सेमीफाइनल में फ्रांस और बेल्जियम के बीच कड़े मुकाबले की उम्मीद

सेंट पीट्सबर्ग, 09 जुलाई (हि.स.)। विश्वकप फुटबॉल में ख़िताब के लिए इस बार सेमीफाइनल में आपस में भिड़ने वाली चारों टीमें यूरोप की हैं। इनमें सर्वाधिक आकर्षक मुकाबला फ्रांस और बेल्जियम के बीच मंगलवार को पहले सेमीफाइनल में देखने को मिल सकता है।

वहीं, दूसरा सेमीफाइनल मैच बुधवार को इंग्लैंड और क्रोएशिया के बीच खेला जाएगा।

हाल ही में फ्रांस और बेल्जियम यूरोपीय चैम्पियनशिप के अंडर-17 में भिड़ चुके हैं, जिसमें फ्रांस की टीम विजयी रही थी। फ्रांस को अपनी अग्र पंक्ति में स्ट्राइकर एमबापे और एंटोनी ग्रिजमैन पर नाज़ है। दोनों ही ख़तरनाक स्ट्राइकर हैं। इन्होंने पिछले मुक़ाबलों में जिस तरह अर्जेंटीना और उरुग्वे को परास्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, उससे टीम का आत्मविश्वास बढ़ा है।

एमबापे ने अर्जेंटीना के ख़िलाफ़ तो ग्रिजमैन ने उरुग्वे के खिलाफ बढ़िया प्रदर्शन किया था। साथ ही टीम के पास ओलिवर गिरोड भी हैं, जो भले ही स्ट्राइकर नहीं हैं पर व्यूह रचना के मास्टर हैं।

हालांकि गिरोड मैनचेस्टर युनाइटेड में बेल्जियम के कुछ खिलाड़ियों के साथ खेले हैं, पर स्पीड और गेंद नियंत्रण में वे उनसे कहीं बेहतर हैं। दूसरी तरफ, बेल्जियम की टीम अभी तक तीन-चार-तीन की शैली में खेलती दिखी है। इसी शैली के आधार पर उसने पांच बार की विश्वविजेती टीम ब्राजील को भी पटखनी दी थी।

टीम के पास रोमेलू लुकाकू के रूप में एक बेहतरीन स्ट्राइकर है, जिसने कई मौकों पर टीम को जीत दिलाई है। मध्य पंक्ति में इडेन हजार्ड, केविन डी ब्रुयने और एलेक्स विसल भी अपनी भूमिका को बखूबी समझते हैं। ब्राज़ील के ख़िलाफ़ केविन डी ब्रुयने निर्णायक भूमिका में रहे थे। इसके अलावा, बेल्जियम की रक्षा पंक्ति बेजोड़ है जो उन्हें विपक्षी टीम के सामने मजबूती से टिके रहने का हौंसला देती है।

हिन्दुस्थान समाचार/ललित

image