Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, अक्तूबर 15, 2018 | समय 15:43 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

तेजस्वी को जब्त सम्पत्ति सरकार को सौंपने की घोषणा करनी चाहिए: सुशील कुमार मोदी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Jun 13 2018 4:08PM
तेजस्वी को जब्त सम्पत्ति सरकार को सौंपने की घोषणा करनी चाहिए: सुशील कुमार मोदी
पटना, 13 जून (हि.स.)| बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि महज 28 वर्ष की उम्र में इतनी सारी सम्पत्ति के जब्त होने का रिकार्ड बनाने वाले प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को अपने पिता और राजद अध्यक्ष लालू यादव की छाया से बाहर आकर सभी बेनामी सम्पत्ति को सरकार को सौंपने की घोषणा करनी चाहिए। संवाददाताओं के साथ बातचीत करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद पर तो 50 वर्ष की उम्र में भ्रष्टाचार का आरोप लगा मगर तेजस्वी ने अपने पिता के रिकार्ड को भी तोड़ कर 28 वर्ष की उम्र में ही 28 से ज्यादा बेनामी सम्पत्ति हासिल करने के आरोप में घिर चुके हैं। उन्होंने कहा कि संभवतः तेजस्वी देश के अकेले ऐसा नेता हैं जिनकी इतनी सारी सम्पत्ति जब्त हो चुकी है। उन्होंने कहा कि ईडी द्वारा जब्त सम्पत्ति के मामले को लेकर कोर्ट जाने की बात करने वाले तेजस्वी यादव अपनी कुर्सी गंवाने के एक साल बाद भी यह नहीं बता पा रहे हैं कि पटना की इस कीमती 3 एकड़ जमीन के मालिक वह कैसे बने? उन्होंने कहा कि रेलमंत्री लालू प्रसाद की कृपा से क्रिकेट की आईपीएल टीम में एक्सट्रा प्लेयर के रूप में शामिल तेजस्वी ने कभी कोई मैच नहीं खेला, न ही क्रिकेट में ऐसी कोई शोहरत हासिल की, न पढ़ाई पूरी की और न ही कोई नौकरी-व्यवसाय किया फिर पटना में करोड़ों की 3 एकड़ जमीन के वे मालिक कैसे बन गए? उन्होंने कहा कि राजद नेता लालू प्रसाद हमेशा दावा करते रहे हैं कि वह बहुत ही गरीब परिवार में पैदा हुए थे ऐसे में तेजस्वी यादव को विरासत में कोई अकूत सम्पत्ति जब मिली नहीं तो फिर 28 वर्ष की उम्र में 28 से ज्यादा सम्पत्ति के मालिक कैसे बन गए? क्या कारण है कि नोटबंदी के महज 4 दिन बाद डिलाइट मार्केटिंग का नाम बदल कर ‘लारा प्रोजेक्ट’ कर सरला गुप्ता व अन्य की जगह राबड़ी देवी और तेजस्वी इस कम्पनी के निदेशक और करोड़ों की जमीन के मालिक बन गए? सुमो ने कहा कि तेजस्वी यादव को घोषणा करनी चाहिए कि उनको कानून की समझ नहीं थी और उनके पिता ने उन्हें अपने भ्रष्टाचार का साझीदार बना कर फंसा दिया और अब वे अपनी तमाम बेनामी संपत्ति सरकार को वापस कर रहे हैं, ताकि सरकार वहां अस्पताल, स्कूल, अनाथालय आदि का निर्माण करा सके। हिन्दुस्थान समाचार / रजनी/शंकर
image