Hindusthan Samachar
Banner 2 सोमवार, नवम्बर 19, 2018 | समय 06:37 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

दो दिनों में पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को परीक्षण के लिए बुला सकता है सीवीसी

By HindusthanSamachar | Publish Date: Nov 7 2018 12:57PM
दो दिनों में पूर्व सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को परीक्षण के लिए बुला सकता है सीवीसी
प्रमोद
नई दिल्ली। सीबीआई में मचे घमासान के बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा के खिलाफ चल रही जांच के तहत केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) अब वर्मा को परीक्षण के लिए एक-दो दिनों में बुलाएगा। सीबीआई के एक भरोसेमंद सूत्र ने यह जानकारी दी है। हालांकि जांच के बाद ही सीवीसी ने प्रश्नों की एक सूची वर्मा के पास भेज दी थी, जिसका जबाव वर्मा ने दाखिल कर दिया है।
उल्लेखनीय है कि एजेंसी के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना व वर्मा के बीच बर्चस्व की लड़ाई को लेकर केंद्र सरकार ने विवाद को शांत करते हुए दोनों ही अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया। इसके तुरंत बाद वर्मा ने इस सरकारी आदेश का विरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाल दी थी। कोर्ट ने सीवीसी को वर्मा के खिलाफ जांच का आदेश देते हुए जांच के पर्यवेक्षण का भार सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश एके पटनायक को सौंप दिया था। सीवीसी अभी उसी जांच की कार्यवाही कर रही है।
 
सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने कुछ महीनों पूर्व अपने निदेशक आलोक वर्मा के खिलाफ एक आवेदन केंद्रीय कैबिनेट सेक्रेटरी को सौंपा था। फिर सोच विचार करते हुए उस आवेदन को सीवीसी को भेज दिया गया। मामले की जांच सीवीसी करने लगा। सीवीसी के मुताबिक इस जांच में वर्मा ने सीवीसी का सहयोग नहीं किया और संबंधित फाइलों को भी सीवीसी के पास नहीं भेजा लेकिन अस्थाना के आरोप के प्रतिक्रिया स्वरूप वर्मा ने अस्थाना के खिलाफ रिश्वतखोरी का एक मामला दर्ज करने की सहमति दे दी। अस्थाना की गिरफ्तारी इस मामले में अवश्यंभावी हो गई तो अस्थाना दिल्ली उच्च न्यायालय चले गए और न्यायालय ने उनकी गिरफ्तारी पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी। केंद्र सरकार ने बढ़ते हुए विवाद के बीच सीवीसी की सिफारिश पर दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेजते हुए सीबीआई के एक संयुक्त निदेशक एम नागेश्वर राव को एजेंसी का अंतरिम निदेशक बना दिया।
image