Hindusthan Samachar
Banner 2 बुधवार, अक्तूबर 17, 2018 | समय 00:06 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

पत्रकारों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात

By HindusthanSamachar | Publish Date: Sep 4 2018 2:51PM
पत्रकारों ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात

इटानगर, 04 सितम्बर (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश वर्किंग जर्नलिस्ट संघ (एपीयूडब्ल्यूजे) के सदस्यों ने सोमवार को अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू से मुलाकात करते हुए अपनी चार सूत्रीय मांगों का एक ज्ञापन सौंपा। इस दौरन खांडू ने पत्रकारों को आश्वासन दिया कि उनकी सरकार एक मुक्त सोच वाले समाज को बढ़ावा देने के लिए प्रेस सुधारों की मांग पर ध्यान रखेगी।

पत्रकार सदस्यों का नेतृत्व करते हुए एपीयूडब्ल्यूजे की अध्यक्षता में अमर सांगनो ने कार्यकारी पत्रकारिता संरक्षण अधिनियम (डब्ल्यूजेपी अधिनियम) की मांग की और कहा कि वर्तमान में महाराष्ट्र भारत का एकमात्र राज्य है, जहां कार्यकारी पत्रकारों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए एक अधिनियम पारित किया गया है। अरुणाचल प्रदेश के पत्रकार अक्सर विभिन्न समुदाय और संगठनों की असामान्य परिस्थितियों का सामना करते हैं। इसलिए एपीयूडब्ल्यूजे दृढ़ता से महसूस करता है कि डब्ल्यूजेपी अधिनियम से पत्रकारों की सुरक्षा की सुनिश्चित होगी।

संघ ने कार्यकारी पत्रकारों के लिए पेंशन योजना शुरू करने की भी मांग की। मुख्यमंत्री को बताया गया कि आज तक असम, त्रिपुरा और हरियाणा समेत अन्य कई राज्यों की राज्य सरकारों ने पत्रकारों के लिए पेंशन योजना लागू की है, जो अपने पेशे से सेवानिवृत्त हुए हैं। अध्यक्ष संगनो ने कहा कि ऐसी परिस्थितियों में यह केवल उचित है कि जनता की सेवा करने वाले पत्रकारों को लंबे समय तक सेवा के बाद पुरस्कृत किया जाना चाहिए। इसके अलावा संघ ने पार्किंग कारों से छूट की मांग की है कि पत्रकारों को अक्सर अपने वाहनों को अपने कर्तव्यों का पालन करने के लिए कई बार पार्क करना पड़ता है, उन्हें हर दिन भारी पार्किंग शुल्क का भुगतान करना पड़ता है। मजीठिया मजदूरी बोर्ड का क्रियान्वयन और सरकारी गेस्ट हाउस में मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए आवास नियम को लागू करने की अन्य मांगें शामिल थीं।

हिन्दुस्थान समाचार/तागू

image